बीजेपी MLA के बेटे पर बच्चे को जिंदा दफन करने का आरोप

लाइव सिटीज डेस्क : उत्तर प्रदेश के बहराइच में एक दिल दहला देने वाली घटना को अंजाम दिया गया है. मासूम बच्चों को जिंदा जमीन में दफ़न करने का मामला सामने आया है. और यह संगीन आरोप जिनके ऊपर लगा है वो भाजपा एमएलए सुभाष त्रिपाठी के बेटे निशांक त्रिपाठी हैं.   

बहराइच में पयागपुर के भाजपा विधायक सुभाष त्रिपाठी के बेटे निशांक त्रिपाठी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज हुआ है. उन पर आरोप है कि उन्होंने जबरन खनन का विरोध कर रहे लोगों के बच्चों की हत्या कर दी. परिजनों का आरोप है कि इन दोनों बच्चों में से एक को जिंदा दफन कर दिया गया.

एक अंग्रेजी अख़बार में छपी खबर के मुताबिक करण (10) और निसार (11) जो भौरी गाँव का रहने वाला है. दोनों बच्चे एक दिन नदी के पास अपने खेत से गायब हो गये थे. जब वे देर शाम तक नहीं लौटे तो उनके परिजनों ने उन्हें तलाशना शुरू किया. सुराग नहीं मिलने पर पुलिस को खबर की गई. पुलिस ने बताया कि करन की लाश नदी के पास से मिला. जबकि अगली सुबह निसार की लाश नदी के पास सटे एक पोखर से मिला. जो रेत खनन के पास ही है. बहराइच के एसपी ने कहा कि हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आया है, लेकिन मुझे खबर मिली है कि उनकी मौत डूबने से हुई है, क्योंकि उसके शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं मिले हैं.

पुलिस को अपनी शिकायत में करन के पिता चेतराम जो एक दलित हैं, ने आरोप लगया कि उनके बेटे को रेत के अंदर जिंदा दफनाया दिया गया था.उन्होंने दावा किया कि आरोपी रेत के अवैध खनन में शामिल था. ग्रामीणों ने इस तरह की अवैध गतिविधियों का विरोध किया था. जिसके बाद आरोपी ने चेतराम को भी जान से मारने की धमकी दी थी. एफआईआर भोंडी थाने में दर्ज की गई है.

वहीं इस मामले में भाजपा विधायक सुभाष त्रिपाठी ने कहा कि सभी आरोप गलत और निराधार हैं. विधायक ने कहा कि हमने क्षेत्र में अवैध खनन के खिलाफ काम किया है, तो अवैध खनन में शामिल लोग मेरे खिलाफ हैं. उन्होंने यह भी कहा कि मेरे बेटे को विपक्ष द्वारा फंसाया गया है. बच्चों की हत्या  और रेत खनन से उनका कोई लेना देना नहीं है.

यह भी पढ़ें-  बोले रामविलास, NDA में अगर आयें नीतीश तो बिहार में अपराध में आएगी कमी