आधार का हेल्पलाइन नंबर अपने आप हो गया है फोनबुक में सेव, टेंशन में आये लोग

लाइव सिटीज डेस्क : आधार कार्ड की अनिवार्यता को लेकर मामला सुप्रीम कोर्ट में है. आधार कार्ड से निजी डाटा चोरी होने के खतरे पर लगातार बहस जारी है. लेकिन इस बीच आधार से ही जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है. जिससे भारत में हजारों स्मार्टफोन यूजर्स आश्चर्य व्यक्त कर रहे हैं. साथ ही अलर्ट भी हो गए हैं. दरअसल, आधार कार्ड का हेल्पलाइन नंबर अपने आप सबके फोन के कांटेक्ट में सेव हो गया है. ऐसा होने से हजारों स्मार्टफोन यूजर्स हैरान हो गए हैं. हैरानी इस बात कि है कि जब मोबाइल यूजर्स खुद से UIDAI का नंबर सेव नहीं किये तो फिर खुद ब खुद कैसे सेव हो गया है ? इस सवाल ने एक बार फिर से आधार की मंशा पर सवाल उठाए हैं.

फ्रांसीसी सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एल्डर्सन ने ट्विटर पर यूआइडीएआइ से पूछा, ‘कई लोग, जो अलग-अलग सर्विस प्रोवाइडर का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिनके पास आधार कार्ड हैं और जिनके पास नहीं है, आधार एप इंस्टॉल होने और न होने वाले…सभी ने ध्यान दिया है कि आपका फोन नंबर डिफ़ॉल्ट रूप से उनकी संपर्क सूची में पूर्वनिर्धारित है, उनकी जानकारी के बिना क्या आप समझा सकते हैं क्यों? ”

हालांकि अभी तक यूआइडीएआइ ने इस मसले पर कोई भी आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है. बता दें कि यूआइडीएआइ ने अपना हेल्पलाइन नंबर बदलकर 1800-300-1947 कर दिया है. नई संख्या वाला ये नंबर यूजर्स की सहमति के बिना उनकी फोनबुक में सेव हो गया है.

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राइ) के चेयरमैन आरएस शर्मा ने 28 जुलाई को अपना 12 अंकों का आधार नंबर साझा करके एक ट्वीट करते हुए हैकर्स को चुनौती दी थी. शर्मा ने हैकर्स से कहा था कि वो उनकी डिटेल्स को हैक करके दिखाए. जिसके बाद हैकर्स ने उनकी चुनौती स्वीकारते हुए ट्राइ चीफ की 14 व्यक्तिगत जानकारियों को लीक कर दिया था. जिसके उनका मोबाइल नंबर, घर का पता, जन्मतिथि, पैन कार्ड नंबर, वोटर आइडी समेत कई दस्तावेज शामिल थे.

अगर आप भी अपने बच्चों के लिए बनवा रहे हैं आधार कार्ड, तो पहले जान लें ये जरूरी बातें

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*