नालंदा : ग्रामीणों ने बालू उठाव का किया विरोध, डीएसपी समेत कई थानों की पुलिस पहुंची

लाइव सिटीज, नालंदा/संतोष कुमार : नालंदा के बिन्द थाना के उतरथु गांव के सैकड़ों ग्रामीणों ने ढ़ाई पीपर नदी घाट पहुंचकर बालू उठाव करने पर आज रोक लगा दिया. ग्रामीणों के द्वारा बालू उठाव पर रोक लगाने के बाद बालू माफियाओं ने जमकर फायरिंग की. बालू माफियाओं के द्वारा फायरिंग करने के कारण पूरे इलाके में दहशत का माहौल है. घटना के बाद बालू घाट पर ग्रामीणों और मजदूरों में भगदड़ मच गई.

इसके बाद ग्रामीण उग्र हो गए और माइनिंग असिस्टेंट डायरेक्टर समेत कई लोगों की जमकर पिटाई कर दी. इसके बाद प्रशासन ने बालू घाट के दोनों तरफ रास्ते को काट कर अवरूद्ध कर दिया.

फायरिंग के कारण मच गई अफरा-तफरी

जानकारी के मुताबिक करीब एक घंटे से अधिक समय तक ढाई पीपर व अन्दी बालू घाट पर काफी अफरा-तफरी मची रही. फायरिंग की जानकारी मिलते ही एसडीओ जनार्दन प्रसाद अग्रवाल, डीएसपी इमरान परवेज, सीओ राजीव रंजन पाठक समेत बिंद थाना प्रभारी राकेश कुमार, अस्थावां थाना प्रभारी संतोष कुमार, सारे थाना प्रभारी दिनेश कुमार सिंह व रहुई थाना की पुलिस मौके पर पहुंची.

पुलिस छावनी में तब्दील हो गया बालू घाट

करीब दो घंटे तक बालू घाट पुलिस छावनी में तब्दील रहा. उतरथु के ग्रामीणों ने बताया कि बालू उठाव के कारण बाढ़ की त्रासदी लोगों को झेलनी पड़ी थी. घर का सारा समान पानी मे बर्बाद हो गया. ग्रामीणों ने कहा कि हमलोग एक साल पहले से प्रशासन से बालू उठाव पर रोक लगाने की मांग कर रहे है. बालू उठाव पर रोक लगाने की मांग पर बालू माफिया ने प्रदीप मुखिया के घर पर फायरिंग भी की थी. इसको लेकर थाना में आवेदन भी दिया गया था.

बिना चालान होता है बालू उठाव

ग्रामीणों के अनुसार प्रतिदिन सैकड़ों ट्रैक्टर बालू बिना चलान के उठाया जा रहा है. ग्रामीणों ने स्थानीय प्रशासन की मिलीभगत से बालू उठाव का भी आरोप लगाया. हालांकि मौके पर पहुंचे एसडीओ व डीएसपी ने बालू उठाव पर रोक लगा दिया है. थानाध्यक्ष राकेश कुमार ने कहा कि दो राउंड फायरिंग हुई है. असामाजिक तत्वों की पहचान की जा रही.

पटना में बंद घर से मिले 5 जिंदा बम, पड़ोस का रहने वाला क्रिमिनल गिरफ्तार