स्वर्गीय दारोगा प्रसाद राय की पोती के साथ क्या हश्र हुआ ? आज वो वोट मांगते हैं, हसनपुर की जनता से सीएम नीतीश ने पूछा सवाल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: समस्तीपुर जिले के हसनपुर विधानसभा क्षेत्र में सीएम नीतीश ने चुनावी सभा की. इस मौके पर एनडीए प्रत्याशी व जेडीयू नेता राज कुमार राय को जीताने की अपील की. चुनावी सभा को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि राय जी के कहने के अनुसार ही इलाके का विकास किया गया है. इनको फिर से भारी मतों से आप विजयी बनाएं यही मेरा आग्रह हैं आपसे.
हसनपुर की सभा को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश ने लालू परिवार पर डायरेक्ट हमला बोला. उन्होंने कहा कि जिस जाति की बात करते हैं वो लोग उसी वर्ग से आने वाले दारोगा प्रसाद राय की पोती के साथ क्या हश्र किया गया. आज वहीं लोग आपसे वोट मांगते हैं. क्या भूल गए क्या ? किसी विकास की बात करते हैं वो लोग. अपने बच्चे,बच्चियों को आगे कर वो लोग विकास करना चाहते हैं.
उनलोगों को काम करने का 15 साल मौका मिला फिर भी विकास का कोई काम नहीं किया गया. आज अपने बच्चों को आगे कर विकास करने की बात करते हैं. जब से हमलोगों को काम करने का मौका मिला तभी से हमलोगों ने न्याय के साथ विकास करने का लक्ष्य था. हर इलाके और हर तबके के विकास के लिए काम किया है. महिलाएं, अल्पसंख्यक समुदाय, दलित, महादलित, अति पिछड़े वर्ग के लोग हो सभी के विकास के लिए काम किया गया.

पंचायती राज संस्था और नगर निकाय में महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया. कौन पूछता था अतिपिछड़ों को? कितनी उनकी उपेक्षा होती थी. अतिपिछड़ों को 20 फीसदी का आरक्षण मिला. जनप्रतिनिधि बनने के बाद उनकी समाज में प्रतिष्ठा बढ़ी. हमलोगों ने सबके विकास के लिए काम किया.



स्कूलों में कितनी शिक्षकों की बहाली की गयी. कहां पढ़ाई की गयी. प्राथमिक स्कूलों में 12.5 फीसदी बच्चे, बच्चियां नहीं पहुंच रहे हैं. हमलोगों ने टोला सेवका, तालिमी मरकज के माध्यम से इन बच्चों को स्कूलों तक पहुंचाया गया.
गरीबी के कारण लोग अपने लड़कियों को स्कूल नहीं भेज पाते थे. पोशाक और साइकिल योजना चलाकर लड़कियों को और पढ़ने के लिए जागरूक किया गया. लड़कों के लिए साइकिल योजना चलायी गयी. अब हालात ऐसी हो गयी की इसबार के मैट्रिक परीक्षा में लड़कों से ज्यादा लड़कियों की संख्या हो गयी है. जो एक अच्छी बात है.

सड़कों के लिए राजधानी पहुंचने में हमने लक्ष्य निर्धारित किया. पहले 6 घंटा था अब पांच घंटा कर दिया है. हर जिले में इंजीनियरिंग कॉलेज, पॉलिटेक्निक कॉलेज, आईटीआई संस्थान, जीएनएम संस्थान खोला गया. समस्तीपुर में इंजीनियरिंग कॉलेज ही नहीं यहां मेडिकल कॉलेज खोला गया. 8 मेडिकल कॉलेज का काम चालू हो गया. इसके अलावे 3 मेडिकल कॉलेज राज्य सरकार अपने ओर से बनाएगी.

युवाओं के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड, काम की तलाश करने वालों को 2 साल तक प्रतिमाह 1 हजार रूपया की सहायता दी जा रही है. कुशल युवा कार्यक्रम चलाया गया. 10 लाख से ज्यादा युवक युवतियों ने ट्रेनिंग ले ली है. महिलाओं को पुलिस बल में 35 फीसदी आरक्षण दिया गया.

पहले बिजली मिलती थी, शहर में भी बिजली रहती थी, पहले मात्र 700 मेगावाट बिजली उपलब्ध होता था अब 6000 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की जाती है. हर गांव में पक्की गली और नाली का निर्माण पूरा किया गया. हर गांव में बिजली पहुंचाने का काम किया गया. आगे मौका दीजिएगा तो हमलोगों नई तकनीक की शिक्षा देंगे.

हर घर बिजली पहुंचा दिया गया. पशुओं के इलाज के लिए 8-10 पंचायत पर एक अस्पताल खोला जाएगा. पशुओं की दवा को मुफ्त दिया जाएगा. हमलोगों ने बिहार की सेवा की है. पूरा बिहार एक परिवार है. किसी के लिए माता-पिता बेटा-बेटी ही परिवार है. मौका मिला 15 साल तो कुछ नहीं किया. बाल बच्चा को आगे बढ़ाकर क्या यही होता हैं विकास.

लोगों को काम करने का मौका मिला, 24 हजार करोड़ रूपया से अधिक बजट नहीं होता था. अब बिहार का बजट 2 लाख 18 हजार करोड़ से ज्यादा हो गया. केन्द्र सरकार की ओर से भी राज्य के उत्थान के लिए काम किया जा रहा है. सड़कों का चौड़ीकरण, पुल पुलिया के निर्माण का काम किया गया. किसानों को एक साल में 6 हजार रूपया दिया जा रहा है. बिहार के लिए तो और विशेष पहल की जा रही है. बिहार के विकास के लिए केन्द्र और राज्य सरकार साथ-साथ काम कर रही है.