‘क्या स्थिति थी, भूल गए क्या ? दिनदहाड़े लोगों को जबरन उठा लिया जाता था, पैसा लेकर छोड़ा जाता था’

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : रोहतास के करगहर विधानसभा क्षेत्र में सीएम नीतीश कुमार ने चुनावी सभा को संबोधित किया. करगहर विधानसभा क्षेत्र से पार्टी प्रत्याशी वशिष्ठ सिंह को जीताने की अपील की. अपने संबोधन में सीएम नीतीश ने लालू-राबड़ी राज पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि पहले क्या स्थिति थी. पहले जो अपराध होता था. पकड़ को किसी को रख लेते थे फिर पैसा लेकर छोड़ते थे. जान लीजिए थोड़ी सी गलती हुई तो फिर से 15 साल पिछले वाला बिहार बन जाएगा. एक अंदर हैं और लोग अंदर जाएंगे. जिसका वोट लिया है उसका भी कल्याण नहीं किया. क्या-क्या नहीं मेरे खिलाफ बोला जा रहा है. लेकिन इन सब बातों से मेरे ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ता है.

चाहे ये लोग वोट जिसका लेते रहे हों, लेकिन किसके विकास और उत्थान के लिए इनलोगों ने काम किया. 7 सितंबर को हमने वर्चुअल रैली में विकास का काम को बताने लगे तो समय कम पड़ गया. कोरोना में हम लोगों ने बहुत काम किया. लोगों को तो मौका मिला था. पहले तो पंचायत का चुनाव तक नहीं कराते थे. 2000 में जब पंचायत का चुनाव हुआ तो महिलाओं को कहां आरक्षण मिला था. अतिपिछड़े वर्ग, दलित और महादलित को मौका तक नहीं मिला था. हमारी सरकार बनी तो हमने आरक्षण लागू किया. पंचायतों में 50 फीसदी का आरक्षण देने का काम किया.



पहले न के बराबर महिलाएं जनप्रतिनिधि होती थी, लेकिन अब दृश्य बदल गया. लड़कियां पढ़ नहीं पाती थी. पोशाक और साइकिल योजना चलाकर स्कूलों में लड़कियों को पहुंचाया गया. आज लड़कियों की संख्या मैट्रिक में लड़कों से ज्यादा हो गया. बाद में हमने लड़कों के लिए साइकिल योजना की शुरूआत की.

जो सिर्फ मेरे खिलाफ बयान देते हैं. हमको बयानबाजी से कोई मतलब नहीं है. हम इलाकों का आकलन और अध्यय करने के बाद वहां के विकास के लिए काम करते हैं. विश्व बैंक से कर्ज लेकर जीविका समूह बनाने का काम किया. 10 लाख जीविका समूह का लक्ष्य रखा. 1 करोड़ से ज्यादा महिलाएं इससे जुड़ गयी है. पूरा का पूरा वातावरण बदल गया है.

पहले पलायन होती थी, लूटपाट मचता था, संप्रदायिक दंगें होते थे, गरीब गुरबा के साथ लूटपाट होता था. क्या स्थित थी, लेकिन 2005 के नवंबर महीने से हमको जब काम करने का मौका मिला तो न्याय के साथ विकास का काम किया

सीएम नीतीश बागी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि हमने तो ऐसे लोगों को  बहुत तरह की इज्जत दी. अपने आप को बड़ा-बड़ा नेता मानते हैं. हमने मंत्री तक बनाकर रखा. फिर जहां मन किया वहां चले गए. इसके चक्कर में मत पड़िएगा.

हर घर नल का जल का काम 84 प्रतिशत पूरा हो गया. गांव-गांव तक पक्की सड़क पहुंचाने का काम किया जा रहा है. शहरों और बाजरों में जाने के लिए बाइपास बनाया जाएगा. 8-10 पंचायत पर पशु चिकित्सालय बनाया जाएगा. हर गांव में नयी टेक्नोलॉजी पहुंचाने का काम किया जाएगा. पशुओं का दवा मुफ्त में दिया जाएगा.

केन्द्र की ओर से जारी अपराध के आंकड़ों में बिहार 23वें स्थान पर है. आप कुछ भी कीजिए कुछ लोग गड़बड़ करता ही है. बायां-दायां करता ही है. सकल घरेलू उत्पाद 2005-06 में 76 हजार 506 करोड़ रूपया. अब 4 लाख 14 हजार 977 रूपया पहुंच गया है. हमलोगों ने विकास का काम किया. अब विकास का दर 12.50 फीसदी हो गया है.

बिहार की जनसंख्या कम कैसे हो इसको लेकर सरकार काम कर रही है. प्रजनन दर काफी कम हुआ है. और लोगों को विकास से कोई मतलब नहीं है. हमलोगों यहां काम कर रहे हैं. केन्द्र सरकार की ओर से हर मदद मिल रहा है.