2005 से पहले बिहार में शिक्षा की हालात क्या थी ?, यह किसी से छिपी नहीं है- शिक्षा मंत्री

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : नीतीश सरकार के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने यह दावा किया कि जब से बिहार में नीतीश सरकार आयी, प्रदेश का विकास हर स्तर पर हुआ. चाहे वह शिक्षा, स्वास्थ्य या किसी विभाग की बात कर लें, आपको हर ओर विकास नजर आएगा.

उन्होंने कहा कि आप शिक्षा विभाग की बात कर लें तो 2005 के पहले के हालात क्या रहे, यह किसी से छिपा नहीं है. उसके पहले यहां विद्यालय खपड़े का हुआ करता था. हमारी सरकार आने के बाद 22 हजार नए विद्यालयों के भवन का निर्माण कराया गया. शिक्षा की गाड़ी पटरी पर आ गई है.



प्रदेश में 3.45 लाख शिक्षकों की व्यवस्था की गई. हर विद्यालय में शिक्षक दिए. हमारी सरकार लगातार गुणवत्तापूर्ण शिक्षकों की बहाली कर रहे हैं. हमने सरकारी विद्यालयों में शिक्षा की उचित व्यवसथा की.

विपक्ष को दी चौपट की संज्ञा

उन्होंने कहा कि रहा सवाल विपक्ष के तंज का तो वह चौपट शब्द को अपना पर्याय बना चुकी है. हर विभाग के आगे चौपट शब्द लगा कर अपनी दुकान चलाती है.

पहले की सरकार में सरकारी विद्यालयों के हालात पर आप नजर डाल लें. आपको पता चलेगा कि उस समय 12.5 प्रतिशत बच्चों की उपस्थित नहीं थी. यह वही बच्चे थे जो पिछड़े समाज से आते थे. मुख्यमंत्री ने इसे ऐसे दलित,पिछड़े समाज के बच्चों को स्कूल तक लाने की योजना बनायी. उन्होंने ऐसे समाज में जागृति लाने का अभियान चलाया.

इस अभियान के अलावा कई कार्य ऐसे किये गये. जिससे शिक्षा के क्षेत्र में विकास हुआ. सरकार की योजनाओं से ​प्रदेश की लड़कियों को भी लाभ मिला. आज बड़ी संख्या में न सिर्फ लड़कियां पढ़ रही हैं, बल्कि वे अच्छा भी कर रही हैं. हर गांव आज शिक्षा की रोशनी से चमक रहा है.