‘जब मोबाइल पर रामविलास जी ने मुझे धन्यवाद दिया’ जेडीयू नेता व मंत्री नीरज कुमार ने ऐसे दी श्रद्धाजंलि…

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : भारतीय दलित राजनीति के धुरी कहे जाने वाले रामविलास पासवान अब इस दुनिया में नहीं रहे. 74 साल की उम्र में उनके निधन से आज पूरा देश शोकाकुल है. राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रक्षा मंत्री समेत देश का कोई भी ऐसा दल नहीं हैं जिसके नेता दुखी नहीं है.

सभी ने ट्वीट कर अपनी संवेदना प्रकट की है. कई लोगों ने उनके साथ अपने रिश्ते को याद कर गंभीर गए तो कई उनके कार्यो को याद कर भावुक हो जा रहे हैं. सभी उन्हें दल से ऊपर राजनीति करने वाला एक ऐसा शख्स बताया जिसने हमेशा दलित,पीड़ित, शोषित और वंचितों के उत्थान के लिए काम किया.



जेडीयू नेता नीरज कुमार ने भी रामविलास को अंतराष्ट्रीय नेता करार देते हुए कहा कि उनका जाना ना सिर्फ लोजपा परिवार के लिए क्षति हैं बल्कि देश के दलित, पीड़ित, वंचित और शोषित समाज के लिए एक अपूरणीय क्षति है. जिसकी कभी भी भारपायी नहीं की जा सकती है.

रामविलास पासवान जी के साथ नीरज कुमार ने अपने तीन मुलाकात को याद करते हुए कहा कि जब महागठबंधन से जेडीयू अपना नाता तोड़ रहा था तब मेरे मोबाइल पर अचानक फोन आया और उधर से कहा गया कि केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान जी आपसे बात करना चाहते हैं.

जब मैंने फोन रिसिव किया तो उन्होंने मुझे धन्यवाद दिया और कहा कि आप लोगों ने जो किया वो अच्छा किया. तब मैंने फोन पर उनका शुक्रिया करते हुए कहा कि सर नयी पीढ़ी की राजनीति में भ्रष्टाचार और अपराध का कोई जगह नहीं हो सकता है. इसी को लेकर मैंने अपनी आवाज को बुलंद किया है.

अपनी दूसरी मुलाकात को याद करते हुए नीरज कुमार ने कहा कि मेरी दूसरी मुलाकात उनके आवास पर एक कार्यक्रम में हुई थी. उसके बाद मेरी उनसे मुलाकात लोकसभा चुनाव के दौरान मुंगेर में एक चुनावी सभा के दौरान हुई थी. ऐसे नेता का चला जाना निश्चित ही एक अपूरणीय क्षति है.