मोतिहारी में क्यों लगी धारा 144, जारी किया गया है अलर्ट भी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में मॉनसून के दस्तक देने के बाद पिछले कई दिनों से लगातार बारिश हो रही है. बिहार में बारिश से भीषण गर्मी से लोगों को राहत मिली है तो वहीं कई इलाकों में जलजमाव से लोगों को परेशानी का भी सामना करना पड़ रहा है. वहीं मौसम विभाग ने बिहार में अगले 48 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक पटना समेत कई जिलों में मूसलाधार बारिश की आशंका जताई गई है.

भारी बारिश की चेतावनी

मौसम विभाग ने अलर्ट में अररिया, मोतिहारी, बेतिया, सुपौल, सीतामढ़ी, मधुबनी, भागलपुर, खगड़िया, पूर्णिया और मधेपुरा में भारी बारिश की चेतावनी दी है. भारी बारिश की संभावना को देखते हुए पूर्वी चंपारण और मोतिहारी में धारा 144 लगाई दी गई है. जिलों के सभी सरकारी और निजी स्कूल 12 और 13 जुलाई को बंद रहेंगे. हालात को देखते हुए इसकी समय सीमा बढ़ाई जा सकती है. बता दें कि इससे पहले बिहार में भीषण गर्मी और लू के कारण गया समेत कई जिलों में धारा 144 लगाई गई थी.

बारिश के कारण जलजमाव की स्थिति

मोतिहारी समेत कई जिलों में पहले से ही भारी बारिश के कारण जलजमाव की स्थिति बनी हुई है. ऐसे में मौसम विभाग के चेतावनी के बाद पूर्वी चंपारण में धारा 144 लगा दी गई है. सभी सरकारी और निजी स्कूलों को दो दिनों तक बंद रखने का आदेश जारी किया गया है. बच्चों की असुविधा को देखते हुए स्कूलों के साथ-साथ सभी कोचिंग सेंटर्स को भी दो दिनों तक बंद रखने का आदेश जारी किया गया है. बता दें कि बिहार में बीते दो दिनों से रुक-रुककर हो रही बारिश के बाद तापमान में गिरावट दर्ज की गई है. मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में बताया है कि राज्य के कई हिस्सों में अगले एक-दो दिनों में गरज के साथ भारी बारिश हो सकती है.

बता दें कि भारी बारिश के कारण बिहार के बक्सर में दीवार गिरने से मलबे में दबकर एक महिला की मौत हो गई थी. वहीं गोपालगंज में भी बारिश से तबाही की तस्वीर सामने आई है. गोपालगंज में भारी बारिश से एक पेड़ गिर गया था जिसमें एक शख्स की मौत हो गई. मुजफ्फरपुर में भारी बारिश से नदियों में उफान है. वहीं शिवहर में बागमती नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. साथ ही गंडक और गंगा नदी के जलस्तर में भी बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है.

18 जुलाई को सरकार के खिलाफ महाधरना, नियोजित शिक्षक बना रहे हैं रणनीति

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*