वे 55 साल में केवल एक मेडिकल कॉलेज क्यों खोल पाए? एनडीए ने 11 मेडिकल और 39 इंजीनियरिंग कॉलेज खोलकर प्रतिभा पलायन पर लगाम कसी

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क :  बिहार में सियासी युद्ध चरम पर है. चुनावी दंगल में एक दूसरे को मात देने के लिए दल और उसके नेता हर वो हथकंडे अपना रहे हैं, जिससे उनकी और उनकी पार्टी की जीत सुनिश्चित हो सके. विरोधियों को परास्त करने के लिए सुशील मोदी ने दो-दो मोर्चा खोल रखा है. प्रत्याशियों के पक्ष में लगातार वो रोड शो, चुनावी सभाएं कर रहे हैं तो दूसरी ओर विरोधियों पर ट्वीट कर हमला बोल रहे हैं.

सुशील मोदी ने ट्वीट कर लालू-राबड़ी शासनकाल को लेकर तेजस्वी से पांच सवाल पूछे हैं.



1. एनडीए सरकार के 15 साल में बेतिया, पावापुरी, मधेपुरा सहित पांच नये मेडिकल कालेज खुले. दरभंगा एम्स सहित 11 मेडिकल कालेज स्थापित किये जा रहे हैं. कांग्रेस-राजद के युवराज बतायें कि बिहार में 55 साल में केवल 1 नया मेडिकल कालेज क्यों खुला?

2. एनडीए सरकार ने 39 इंजीनियरिंग कालेज खोले. वे केवल 2 इंजीनियरिंग कालेज क्यों खोल पाये? जो बिहार में इंजीनियरिंग और मेडिकल की पढ़ाई का इंतजाम नहीं कर पाये, वे क्या प्रतिभा पलायन के लिए जिम्मेदार नहीं हैं? .

3. हमारी सरकार ने कौशल विकास के लिए हर जिले में पॉलीटेक्निक ( कुल 31) खोलवाये. उनके राज में केवल 13 पॉलिटेक्निक क्यों खुले? .

4. एनडीए सरकार 149 आइटीआइ स्थापित कर रही है, ताकि युवा नौकरी और रोजगार के लायक बनें.    बड़बोले दावे करने वाले केवल 29 आइटीआइ क्यों खोल पाए? क्या वे दस लाख अकुशल लोगों को भी सरकारी नौकरी दे सकते हैं? .

और

5. एनडीए सरकार निजी क्षेत्र में 1202 आइटीआइ स्थापित करा रही है. महागठबंधन के युवराज बतायें कि आजादी के 60 साल बाद भी निजी क्षेत्र में केवल गिने-चुने आइटीआइ क्यों हैं?