वाह रे, बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था ! शेखपुरा में इलाज के अभाव में तड़प-तड़पकर मर गया किशोर, आक्रोशितों ने जमकर काटा बवाल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था इस कदर बेहाल है इसका एक जीता जागता उदाहरण शेखपुरा सदर अस्पताल में देखने को मिला. यहां इलाज के अभाव में एक किशोर की मौत तड़प तड़प कर हो गयी. तीन घंटे तक बच्चा तड़पता रहा, परिजन अस्पताल में भाग दौड़ करते रहे लेकिन कोई भी डॉक्टर देखने तक नहीं आया. किशोर की मौत के बाद अस्पताल में परिजनों ने जमकर बवाल काटा.

दरअसल जिले के रामरायपुर गांव में चैती छठ के अर्घ्य के दौरान एक किशोर फिसलकर नदी में जा गिरा. जिसे काफी मशक्कत के बाद ग्रामीणों ने उसे निकालकर सदर अस्पताल लाया. अस्पताल में तकरीबन 3 घंटे इंतजार के बाद भी कोई डॉक्टर या नर्स नहीं पहुंचे, जिसके कारण उसने तड़प-तड़पकर अस्पताल में ही दम तोड़ दिया. घटना के बाद आक्रोशित परिजनों एवं ग्रामीणों ने जमकर बवाल काटा.

परिजनों के हंगामे को देखते हुए सदर अस्पताल के कर्मियों ने गेट को बंद कर दिया. बावजूद इसके भीड़ गेट पर धक्का-मुक्की करती रही. आक्रोशित भीड़ को देखते हुए अस्पताल के कर्मियों ने भागकर अपनी जान बचाई. सदर अस्पताल में करीब 1 घंटे तक हंगामा जारी रहा लेकिन, कोई भी अधिकारी ने सुध लेना तक नहीं पहुंचा, जिससे लोगों का गुस्सा और भड़क गया और उन्होंने तोड़फोड़ मचाना शुरु कर दिया.

इसके बाद आक्रोशितों ने किशोर के शव के साथ DM आवास के बाहर हंगामा मचाना शुरू कर दिया. इस दौरान शव को रामरायपुर गांव के पास NH 33 A शेखपुरा- बरबीघा मुख्य पथ पर रखकर जाम कर दिया. जाम की सूचना पर पहुंची पुलिस ने एकाएक भीड़ पर लाठीचार्ज शुरू कर दिया, जिसमें कई ग्रामीण जख्मी हो गए. इसके बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिस पर ईंट-पत्थर से हमला कर दिया. ग्रामीणों के द्वारा किये हमले से अपनी जान बचाने के पुलिस को भागना पड़ा.