‘यदि लोकतंत्र खतरे में है तो निश्चत तौर पर यह आपातकाल जैसे हालात हैं’

यशवंत सिन्हा का फाइल फोटो...

लाइव सिटीज डेस्क : इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने शुक्रवार को मीडिया के सामने आकर सबको चौंका दिया. इसके बाद पूरे देश में हलचल मच गई थी. इसके बाद पॉलिटिकल कॉरिडोर से भी रिएक्शन आने लगे. प्रेस कांफ्रेंस में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा पर गंभीर आरोप लगाये गए थे. इसके बाद कई नेताओं ने बयानबाजी शुरू कर दी थी. अब पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने भी इस घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.
उन्होंने कहा कि 4 जजों की बातों का मैं पूरी तरह समर्थन करता हूँ. यशवंत सिन्हा ने कहा कि न्यायाधीश अगर कह रहे है लोकतंत्र खतरे में है तो निश्चत तौर पर यह आपातकाल जैसे हालात हैं. बता दें कि इससे पहले कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने भी कहा था कि जजों ने मीडिया के सामने जो बातें कही हैं. उसके मुताबिक तो नैतिकता के आधार पर चीफ जस्टिस को इस्तीफा दे देना चाहिए.सुप्रीम कोर्ट मामले पर राहुल गांधी बोले- जजों के सवालों से पूरा देश विचलित है 

सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने कल किया था प्रेस कांफ्रेंस

इससे पहले बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि जजों ने बेहद गंभीर मुद्दा उठाया है. स्वामी ने कहा कि मुद्दे को उठाने वाले चारों जज बेहद ईमानदार हैं और उनकी मंशा पर सवाल नहीं उठाया जा सकता. #SupremeCourt : जजों के मामले में कूदे शरद यादव, कहा- लोकतंत्र में अब तक का सबसे काला दिन 

मालूम हो कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की प्रशासनिक कार्यशैली पर सवाल उठाए थे. सीजेआई के खिलाफ विरोध का झंडा उठाने वाले शीर्ष अदालत के दूसरे सबसे वरिष्‍ठ जज जस्टिस जस्‍ती चेलामेश्‍वर के आवास 4 तुगलक रोड पर मीडियाकर्मियों को आमंत्रित किया गया था. जजों के इस फैसले से पूरा देश सन्‍नाटे में था और तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे थे.
प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद चारों जजों ने एक चिट्ठी जारी की, जिसमें गंभीर आरोप लगाए गए हैं. जजों के मुताबिक यह चिट्ठी उन्होंने चीफ जस्टिस को लिखी थी. सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को संबोधित 7 पन्नों के पत्र में जजों ने कुछ मामलों के असाइनमेंट को लेकर नाराजगी जताई थी. बता दें कि जजों का आरोप है कि चीफ जस्टिस की ओर से कुछ मामलों को चुनिंदा बेंचों और जजों को ही दिया जा रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*