डीएसपी ने बेगूसराय से किया था कॅरियर शुरू, अंत भी यहीं से, मधुबनी में हुए सुपुर्द-ए-खाक

बेगूसराय (विनोद कर्ण): बेगूसराय जिले के मंझौल अनुमंडल में पदस्थापित पुलिस अनुमंडल पदाधिकारी वसीमुल हक का निधन बुधवार की देर शाम पटना के रुबन अस्पताल में हो गया. उनके निधन की खबर बेगूसराय पहुंचते ही पुलिस महकमा में मातमी सन्नाटा छा गया. एसपी आदित्य कुमार ने संवेदना व्यक्त किया है. उन्होंने बखरी के डीएसपी सोनू कुमार को अंतिम संस्कार में शामिल होने तक लगाया है. 21 दिसंबर को राजद के बिहार बंद को देखते हुए शव को मधुबनी जिले के जयनगर अनुमंडल मुख्यालय स्थित शहीद चौक थाना के सामने उनके पैतृक घर पर ले जाया गया.
डीएपी को अंतिम सलामी
जहां मधुबनी जिला पुलिस की ओर से जयनगर अनुमंडल पुलिस प्रशासन द्वारा उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. रात 8 बजे बाद नमाज ए इशा के बाद उन्हें वहां के कब्रिस्तान में सुपूर्द-ए- खाक किया जाएगा. उनके जनाजे में कई पुलिस के जवान के अलावा बखरी के डीएसपी सोनू कुमार, बेगूसराय के मो. उमीद, मो. आरजू, मो. हैदर करीम, मो. सफीक, मो. सफदर करीम तो जयनगर के सैयद जावेहुल हक सहित भारी संख्या में लोग शामिल हुए. सभी ने नम आंखों से उन्हें अंतिम विदाई दी.
सलामी में शामिल पुलिस कर्मी
बताया कि उन्हें बुधवार की सुबह पेट दर्द की शिकायत हुई थी. उन्हें सदर अस्पताल में तुरंत एडमिट कराया गया था. नाजुक स्थिति को देखते हुए डॉक्टर ने पटना रेफर कर दिया. जहां इलाज के दौरान इनकी मौत हो गयी. उन्होंने जून 2017 में मंझौल एसडीपीओ के पद पर योगदान दिया था. खास बात यह रही कि उन्होंने अपने पुलिस कैरियर की शुरुआत बेगूसराय जिला के खोदाबंदपुर थाना से की थी.
बाद में साहेबपुर कमाल व टाउन थाना में रहे. अपराधियों के साथ मुठभेड़ व एके 47 राइफल बरामद करने को लेकर वे सुर्खियों में रहे थे. उनके निधन पर मंझौल एसडीओ दुर्गेश कुमार, एएसपी मिथिलेश कुमार, तेघड़ा डीएसपी बीके सिंह, चेरिया बरियारपुर सीओ अनिल पंजियार आदि ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि बिहार ने एक कुशल पुलिस आफिसर को खो दिया है. इधर मंझौल अनुमंडल क्षेत्र के कई शिक्षण संस्थानों में शोक सभा आयोजित कर श्रद्धांजलि दी गई. आर्यभट्ट के निदेशक प्रो. अशोक कुमार सिंह अमर, जदयू नेता चंद्रशेखर वर्मा, सामाजिक कार्यकर्ता दिलीप कुमार सिन्हा सहित कई लोगों उनके असामयिक निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है.