सर्दियों में जान लें साग के फायदे, रोज खाने पर नहीं पड़ेंगे बीमार…

लाइव सिटीज डेस्क : ठंड के मौसम में साग तो सभी के घर में बनता है. साग खाने के बारे में माना जाता है कि ये कई बीमारियों को दूर रखता है. सर्दी के मौसम में गर्म-गर्म चीजें खाने में अच्छी लगती हैं. वहीं खाने में वो आइटम भी लुभाते हैं, जो ठंड में हानिकारक होते हैं. ऐसे में उन फूड आइटम्स का ज्यादा सेवन करें, जो सर्दी-जुकाम और बुखार से बचाकर रख सके. दरअसल ठंड में मानव शरीर की नसें सिकुड़ जाती हैं. इसका असर ब्लड सर्कुलेशन पर भी पड़ता है. इससे शरीर अकड़ा हुआ महसूस होता है. इन सब चीजों से बचने के लिए ठंड के मौसम में अन्य सामानों की तरह साग भी आपके लिए फायदेमंद है. वैसे तो इस मौसम में सरसो का साग ज्यादा फेमस है, लेकिन चना, बथुआ, मेथी आदि के साग भी आपकी सेहत के लिए बेस्ट हैं.

सरसो का साग : सरसो के साग में कम कैलोरीज और फैट होते हैं. वहीं इसमें कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, शुगर, पोटेशियम, विटामिन ए, सी, डी, बी 12, मैग्नीशियम, आयरन, कैल्शियम आदि की भरपूर मात्रा होती है. इसमें एंटीऑक्सि‍डेंट्स भी मौजूद होते हैं, जो शरीर से टॉक्सिन को दूर तो करता ही है, आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाते हैं. सरसो के साग में फाइबर बहुत अधिक मात्रा में होने के कारण पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है. इसके सेवन से कोलेस्ट्रॉंल का स्तर कम होता है और हार्ट डिजीज की आंशका भी कम हो जाती है.

बथुआ का साग : इस साग में कई औषधीय गुण होते हैं. साथ ही यह विटामिन ए, कैल्शियम, फॉस्फोरस और पोटेशियम से भरपूर होता है. बथुआ की खास‍यित है कि ये नाइट्रोजन युक्त मिट्टी में उगता है. इसके साग को नियमित खाने से गुर्दे में पथरी होने का खतरा काफी कम हो जाता है. वहीं गैस, पेट में दर्द और कब्ज की समस्याएं भी दूर होती हैं.

चने का साग : यह साग खाने में पौष्टिक और स्वादिष्ट होता है. चने के साग में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, पानी, फाइबर, कैल्शियम, आयरन व विटामिन पाए जाते हैं. यह कब्ज, डायबिटिज, पीलिया आदि रोगों में बहुत फायदेमंद होता है. चने का साग हमारे शरीर में प्रोटीन की आपूर्ति भी करता है.

मेथी का साग : मेथी में प्रोटीन, फाइबर, विटामिन सी, पोटेशियम, आयरन मौजूद होता हैं. इसमें फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर आदि भी मिलते हैं जो शरीर के लिए बेहद जरूरी हैं. पेट ठीक रहे तो स्वास्थ्य भी ठीक रहता है और खूबसूरती भी बनी रहती है. मेथी पेट के लिए काफी अच्छी होती है. साथ ही यह हाई बीपी, डायबिटीज, अपच आदि बीमारियों में मेथी का उपयोग लाभकारी होता है.

चौलाई का साग : चौलाई में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन-ए, मिनरल और आयरन प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं. इसे कफ और पित्त का नाश करने वाला माना जाता है.

इससे रक्त विकार दूर होते हैं. पेट और कब्ज के लिए चौलाई का साग बहुत उत्तम माना जाता है. साथ ही इससे ब्लड व स्किन की प्रॉब्लम भी दूर होती है.

About Aditya Narayan 243 Articles
हम हैं आदित्य. फैन हैं. किसी आम इंसान के नहीं. भगवान के. वो भी ऐसे-वैसे भगवान नहीं. देवों के देव महादेव के. उनके जो इस सृष्टि के संचालक हैं. हां हम धार्मिक आदमी हैं. भगवान को मानते हैं. बम भोले-बम भोले का जाप करते हैं. कर्मठ व्यक्ति हैं. श्रम का महत्व समझते हैं. इसलिए उसे बचाकर खर्च करते हैं. देखने में ठीक-ठाक है. पर फिर भी खराब दिखते है. ये सखी कहती है. बाकी हमारी जिंदगी का एक्कै मकसद है. उस चीज को पाना, जिसे पाना मुश्किल हो. कहने को लाइफस्टाइल जर्नलिस्ट है. फेसबुक पर प्रेम और फूड पर बहुत लिखते हैं. मगर जब कोई इनबॉक्स में आकर कहता है, आप अच्छा लिखते हैं. तो शर्माकर नीले हो जाते हैं. क्योंकि शिव का रंग भी, तो नीला ही है. बाकी की जानकारी मुझसे मिलकर ही पता की जा सकती है. हां मुझे समझने में आपको परेशानी हो सकती है. लेकिन ये मेरी नहीं आपकी दिक्कत है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*