मानवाधिकार आयोग ने बिहार के मुख्य सचिव व डीजीपी को किया तलब, कहा- 13 जुलाई को हाजिर हों…

लाइव सिटीज डेस्क : चाेरी के आरोप में अनुसूचित जाति के दो भाइयों की पिटाई से हुई मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. इस मामले को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने गंभीरता से लिया है. आयोग ने बिहार के मुख्य सचिव, डीजीपी के अलावा रोहतास के डीएम-एसपी को नोटिस भेज कर तलब किया है. 13 जुलाई को संबंधित अधिकारियों को सदेह उपस्थित होने का आदेश दिया है.

बता दें कि चोरी की घटनाओं से तंग होकर गांव के लोगों ने कानून को हाथ में लेते हुए दो भाइयों को पीट कर मार डाला था. चोरी के आरोप में लोगों ने घटना को अंजाम दिया. मामला रोहतास के कोचस थाना अंतर्गत परसिया गांव का था. 28 जून की रात में परसिया गांव के एक घर में सेंध लगाने के दौरान गृहस्वामी की नींद खुल गई और वे शोर मचाने लगे. इस पर ग्रामीण जुट गये और दोनों को पकड़ लिया. लोगों ने दोनों की जमकर पिटाई की. मौके पर ही दोनों की मौत हो गई. मृतकों की पहचान बबन मुसहर और मुराहू मुसहर के रूप में की गयी थी. दोनों मृतक शिवसागर थाना अंतर्गत पडरा गांव निवासी सरयू मुसहर के बेटे थे.

जानकारी के अनुसार इस मामले को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने गंभीरता से लिया है. आयोग ने बिहार के मुख्य सचिव, डीजीपी के अलावा रोहतास के डीएम-एसपी को तलब किया है. आयोग ने कहा है कि 13 जुलाई को वे आयोग के दिल्ली स्थित कार्यालय में सशरीर मौजूद रहें. राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य योगेंद्र पासवान ने इस मामले में रोहतास जिला और पुलिस प्रशासन पर शाहाबाद के डीआइजी के दबाव में किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया है.

इसे भी पढ़ें : आगे ‘कत्ल’ की एक नहीं, दो-दो रातें हैं बिहार के हिस्से