‘लोकतंत्र का गालीतंत्र, कुछ नहीं मिला तो मेरे नाम से फेक बयान गढ़ दिया’

लाइव सिटीज डेस्कः नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया इस्तीफा मामले में पीएम नरेंद्र मोदी का टारगेट करने के बाद अब मशहूर पत्रकार रवीश कुमार ने एक और हमला बोला है. रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखते हुए लोकतंत्र में बढ़ रहे गालीतंत्र पर अटैक किया है. उन्होंने अपने इस पोस्ट में उन सभी आरोपों का खंडन किया है जिसको लेकर उन पर हमला बोला जा रहा है. आगे पढ़ें रवीश कुमार के शब्दों में-    

studio11

लोकतंत्र का गालीतंत्र. कुछ नहीं मिला तो मेरे नाम से फेक बयान गढ़ दिया. मैंने जो कहा नहीं उसे मेरे नाम से चलाने लगे हैं. पढ़ने वाले भी मान लेते हैं कि मैंने ही कहा होगा. बात इन सबको भाव देने की नहीं है, मैं देता भी नहीं, यहां इसलिए लिख रहा हूं क्योंकि एक रिकार्ड रहे कि मैंने नहीं कहा है. पता चलता है कि भाई लोग कितनी मेहनत कर रहे हैं.

रवीश कुमार पर लगा था यह आरोप
रवीश कुमार पर लगा था यह आरोप

उन्होंने आगे लिखा है कि ”मैं कौन होता हूं कि किसी के जनादेश को चुनौती देने वाला. इन्हीं सब हरकतों के कारण कई लोग मेरे बारे में धारणा भी बना लेते हैं. यह सही है कि कितने प्रोपेगैंडा को एक्सपोज़ करेंगे और गालीतंत्र वाले जितने लोगों तक पहुंचा देंगे, वहां तक तो मैं नहीं पहुंचा सकता. मगर आजकल ये वाला काफी चल रहा है इसलिए ज़रूरी लगा बताना कि मैंने ये नहीं कहा है. रही बात टीआरपी की तो मैं दुनिया का पहला ज़ीरो रेटिंग एंकर हूं. दो परसेंट तो बहुत हुआ! टी आर पी का चुनाव नहीं लड़ता भाई. ज़ीरो रेटिंग होने पर तो इतना भाव देते हैं ये गालीतंत्र वाले. इसका मतलब है कि नंबर वन सिर्फ रवीश कुमार है! बाकी सब ज़ीरो.”

यह भी पढ़ें-
अब राज्यसभा में भी कांग्रेस बैकफुट पर, भाजपा बनी सबसे बड़ी पार्टी
‘देश की अर्थव्यवस्था गिर रही है, अमित शाह अमीर हो रहे हैं’
उपराष्ट्रपति चुनाव कल, जदयू का नहीं बदलेगा फैसला
सुरक्षा में चूक : अमित शाह के प्रोग्राम में मरे हुए सांढ को लेकर पहुंच गये आंदोलनकारी