जदयू मुख्य प्रवक्ता का तेजस्वी पर पलटवार, बबुआ एक बार घायल मनोज सिंह के परिवार से भी मिल लिए होते…, बेनीपट्टी हत्या कांड में सियासी पारा गर्म

लाइव सिटीज, पटना. मधुबनी जिले के बेनीपट्टी में पांच लोगों की गोली मार कर नृशंस हत्या और मामले में मुख्य आरोपी समेत पांच लोगों की गिरफ्तारी के बाद सियासी पारा चढ़ गया है. राजद इस गिरफ्तारी के पीछे खुद का श्रेय बटोरने में जुटी है तो जदयू के नीतिकार इसे सुशासन की सफलता बता रहे हैं. इसी बयानबाजी के बीच जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह का बयान आया है कि विपक्ष के लोग घायल मनोज सिंह से जाकर क्यों नहीं मिले? उसकी कुशलक्षेम क्यों नहीं पूछी गई?

जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने ट्वीटर पर किए गए पोस्ट में कहा है कि नीतीश के राज में अपराधी बिल से भी खोज निकाले जाते हैं. लालू के राज में 118 नरसंहार हुआ. इस नरसंहार में सजा किसको मिली? उन्होंने व्यंग करते हुए कहा है कि बबुआ महमदपुर में जाकर पीड़ित परिवार से तो मिले, लेकिन घायल मनोज सिंह के परिवार से मिलने की जुर्रत नहीं की.

बता दें कि मधुबनी के बेनीपट्टी में गोली बारी की घटना में पांच की असामयिक मौत के मामले में कई दिनों से सियासत चल रही है. अलग_अलग राजनैतिक दलों की ओर से सत्तारूढ सरकार को लगातार घेरने का प्रयास किया जा रहा है. इस घटना को विपक्ष ने नरसंहार का रूप दे दिया है. जबकि नीतीश सरकार रंजिश में 5 लोगों की हत्याएं बता रही है. अपराधियों को पकड़ने के लिए सरकार पर लगातार दबाव बनाया जा रहा था. इसी बीच आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने महमदपुर पहुंचकर पीड़ित परिवार को पांच_पांच लाख की मुआवजा राशि की घोषणा की थी. इसके अगले दिन ही पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. जिसके बाद आरजेडी नेताओं का बयान आ रहा है कि अगर घटनास्थल पर तेजस्वी नहीं पहुंचे होते तो आरोपी गिरफ्तार नहीं किए गए होते.