जेडीयू-एलजेपी विवाद पर मांझी की नसीहत, एनडीए अपनी मजबूती में लड़े चुनाव

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले एनडीए में खटास देखने को मिल रही है. खासकर जेडीयू और एलजेपी के बीच गहमा-गहमी जारी है. इसके बाद जेडीयू के तरफ से बयान भी जारी हुआ कि उनकी पार्टी सीट बंटवारों को लेकर अब एलजेपी से बात नहीं करेगी. इस मुद्दे पर हम मुखिया जीतन राम मांझी ने कहा कि वे चाहते हैं कि एनडीए अपनी मजबूती में चुनाव लड़े.

जीतन राम मांझी ने कहा कि अगर एनडीए मजबूत होगा, तभी नीतीश कुमार फिर से बिहार के सीएम बन पाएंगे. उन्होंने जेडीयू और एलजेपी के विवाद पर कहा कि किसी भी गठबंधन में ये सब चलता रहता है. एनडीए एकजुटता से चुनाव लड़ने जा रहा है.



वहीं रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा का महागठबंधन के साथ चल रहे विवाद पर जीतन राम मांझी ने कहा कि हम जो कह रहे थे, वही हुआ. उन्होंने कहा कि हमने आपस में चर्चा की थी कि ये महागठबंधन में ये दिन जरूर आएगा. आज वही कुशवाहा जी कर रहे हैं.

हम प्रमुख जीतन राम मांझी ने कहा कि आरजेडी के लोग रह रहे हैं कि जनता तेजस्वी को सीएम मानती है. लेकिन साथी दलों की एक बात तक नहीं सुनी गई. उन्होंने कहा कि महागठबंधन में अभी मौन बंधन चल रहा है. जीतन मांझी ने कहा कि कुशवाहा जी को अंदाजा हो गया था कि अब मौन रहने से बात नहीं चलेगा. इसलिए मौन को तोड़ने का समय आ गया है. बता दें कि महागठबंधन में को-ऑर्डिनेशन कमेटी की मांग की थी. लेकिन को-ऑर्डिनेशन कमेटी नहीं बनने के कारण उन्होंने खुद को महागठबंधन से अगल कर लिया.