कोरोना काल में चिकित्सकों की सेवा को पीएम मोदी का सलाम, कहा, जिंदगियां बचाने में दांव पर लगा दी खुद की ‘जान’

लाइव सिटीज, पटना: डॉक्टर्स डे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी डॉक्टर्स की सेवा को नमन किया है. उन्होंने कहा कि डॉक्टर्स को ईश्वर का दूसरा रूप ऐसे ही नहीं कहा जाता. कितने ही लोग ऐसे होंगे जिनका जीवन किसी संकट में पड़ा होगा, किसी बीमारी या दुर्घटना का शिकार हुआ होगा, या फिर कई बार हमें ऐसा लगने लगता है कि क्या हम किसी हमारे, अपने को खो देंगे?

ये पुण्य कार्य करते हुए देश के कई डॉक्टर्स ने अपना जीवन भी न्योछावर कर दिया. मैं उन्हें अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं, उनके परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं. ट्वीट के माध्यम से पीएम मोदी ने कहा कि आज जब देश कोरोना से इतनी बड़ी जंग लड़ रहा है तो डॉक्टर्स ने दिन-रात मेहनत करके, लाखों लोगों का जीवन बचाया. इस साल हेल्थ सेक्टर के लिए बजट का आवंटन दोगुने से भी ज्यादा यानि दो लाख करोड़ रुपए से अधिक किया गया. अब हम ऐसे क्षेत्रों में जहां अभी तक स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी थी, को मजबूत करने के लिए 50 हजार करोड़ रुपए की एक क्रेडिट गारंटी स्कीम लेकर आए हैं. 2014 तक जहां देश में केवल 6 एम्स थे, इन 7 सालों में 15 नए एम्स का काम शुरू हुआ है. मेडिकल कॉलेजेज़ की संख्या भी करीब डेढ़ गुना बढ़ी हैं.

इसी का परिणाम है कि इतने कम समय में जहां अंडरग्रेजुएट सीट्स में डेढ़ गुने से ज्यादा की वृद्धि हुई है, पीजी सीट्स में 80 फीसदी इजाफा हुआ है. पीएम मोदी ने कहा कि एक और अच्छी चीज हमने देखी है कि मेडिकल फ्रेटर्निटी के लोग, योग के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए बहुत आगे आए हैं. योग को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए जो काम आजादी के बाद पिछली शताब्दी में किया जाना चाहिए था, वो अब हो रहा है.