OMG! केवल दिन भर सोफे पर बैठने के लिए इस महिला को मिलता है 65000 रूपए महीना, जानें इसकी वजह

लाइव सिटीज डेस्क : आजकल की भागती दौड़ती जिंदगी में एक पल का भी आराम मिलना मुश्किल हो गया है. खासकर नौकरी पेशा लोगों की हालात तो और भी खराब है. काम का बोझ इतना बढ़ चुका है कि छुट्टी के दिन भी आराम नही मिलता. लेकिन फिर भी रोजी रोटी के लिए लोगों को काम करना ही पड़ता है. ऐसे में अगर आपसे कोई ये कहे कि एक ऐसी नौकरी है जिसमें आपको दिन भर सिर्फ सोफे पर आराम से बैठे रहना है और इसके लिए आपको 65000 की सैलरी मिलेगी तो शायद आपको यकीन ना हो.

कंपनी अपने इस काम के लिए रूस में खास पहचान रखती है



लेकिन हम आपको बता दें ये पूरी तरह से सच है और एक महिला इस लाजवाब काम का आनंद भी उठा रही है. दरअसल, रूस में नामी फर्नीचर कंपनी MZ5 ने कुछ दिनों पहले यहां सोफा टेस्टर की वैकेंनशी निकाली थी. MZ5 ग्रुप तरह-तरह के सोफे, बेड और अलमारी जैसे फर्नीचर तैयार करने का व्यवसाय करती है. कंपनी अपने इस काम के लिए रूस में खास पहचान रखती है क्योंकि इसके बनाए गए प्रोडक्ट बकाएदे लैब में टेस्ट होते हैं और उसके बाद ही वो मार्केट में आते हैं.

फुल टाइम सोफा टेस्टर के पद की वेकेंसी

अपनी प्रोडक्ट क्वालिटी को और बेहतर बनाने के लिए अब कंपनी चाहती थी कि कोई व्यक्ति खुद दिनभर बैठकर इन सोफो की टेस्टिंग करें ताकि पता चल सके कि ये सोफे वास्तव में ग्राहकों के लिए आरामदायक है या नहीं. इसी वजह से कंपनी ने पिछले ही महीने फुल टाइम सोफा टेस्टर के पद की वेकेंसी निकाली थी और जिसमे इस पोस्ट के लिए रुस की ही रहने वाली 26 वर्षीय ऐनन चेरदांत्सेवा को चुना गया.

65 हजार रुपये महीने की सैलरी 

आज ऐनन चेरदांत्सेवा इस दिलचस्प काम को कर रही हैं जिसके लिए उन्हें केवल दिनभर तरह-तरह के सोफो पर बैठकर ये जांच करना होता है कि वो आरामदायक है या नहीं और फिर कंपनी को इसके बारे में सही रिपोर्ट देनी होती है. इस बेहद दिलचस्प काम के लिए ऐनन 65 हजार रुपये महीने की सैलरी मिलती है. ऐसे में ये तो मानना पड़ेगा कि ऐनन वास्तव में बहुत ही भाग्यशाली हैं क्योंकि आज के प्रतियोगी युग में इंसान को चंद पैसे कमाने के लिए अच्छी खासी मेहनत करनी पड़ती है जबकि ऐनन को दिन भर सोफे पर पड़े रहने के लिए एक अच्छी खासी इनकम मिल रही है.