सुमो ने नीतीश को लिखा खत, कहा- एमएलए को-ऑपरेटिव की अनियमितताओं की हो जांच

लाइव सिटीज डेस्क : पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मादी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिख कर एमएलए को-ऑपरेटिव के प्लॉट की लीज की शर्तों के उल्लंघन की जांच एवं दोषियों के विरूद्व कठोर कार्रवाई की मांग की है. उन्होंने कहा है कि सहकारी समिति को अविलंब भंग कर प्रशासक नियुक्त किया जाय तथा आवासीय भू-खण्डों का व्यावसायिक उपयोग करने वाले लालू प्रसाद तथा अन्य लोगों से यह राशि दण्ड सहित  वसूल की जाय व एक से अधिक प्लॉट के आवंटन रद्द किया जाय. 

सुशील मोदी ने अपने पत्र में कहा है कि समिति के बाईलॉज में स्पष्ट प्रावधान है कि ‘‘किसी भी सदस्य को एक से अधिक प्लॉट लेने की अनुमति नहीं दी जायेगी’’ किन्तु समिति की मिलीभगत से लालू प्रसाद और जय प्रकाश  नारायण यादव को अतिरिक्त प्लॉट उपलब्ध कराया गया जबकि अन्य सैकड़ों सदस्य प्लॉट के लिए प्रतीक्षा सूची में हैं. 

प्लॉट आवंटन में मनमानी प्रक्रिया अपनाई गई वहीं लीज के स्थानांतरण में कालेधन का उपयोग किया गया है. व्यक्ति विशेष को लाभ पहुंचाने के लिए सामुदायिक भवन के स्थान में परिवर्तन कर दिया गया. वर्ष 1992 में आवंटित की गई जिस भू-खण्ड की कीमत 37 हजार रुपये थी, उसे बादशाह प्रसाद आजाद ने 20 वर्षों के बाद भी उसी कीमत ( 37 हजार में ) में लालू प्रसाद को ट्रांसफर कर दिया जबकि उसका बाजार मूल्य लाखों रुपये में है.

लीज की शर्तों का उल्लंघन कर लालू प्रसाद आवासीय भूखंड का व्यावसायिक इस्तेमाल कर लाभ अर्जित कर रहे हैं. उनके प्लॉट संख्या-208 में गृह मंत्रालय के सशस्त्र सीमा बल का जोनल पे एण्ड अकाउण्ट ऑफिस नियमों की धज्जियां उड़ा कर 15 वर्षों से चल रहा है. इसी प्रकार अनेक लोग अपने घरों को किराये पर लगा रखे हैं.

यह भी पढ़ें-  पप्पू के बाद मोदी बोले, उम्र छुपाने पर लालू के बेटों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं ?