अस्पताल में टीका के बाद नवजात की मौत, क्रुद्ध लोगों ने पुलिस को खदेड़ा  

हाजीपुर : सदर अस्पताल हाजीपुर के टीकाकरण केन्द्र पर टीका लगाने के बाद बुधवार को एक नवजात बच्चे की मौत हो गई. बच्चे की मौत के बाद परिजनों एवं उनके लोगों ने सदर अस्पताल में जमकर हंगामा मचाया. हंगामे के दौरान टीकाकरण केन्द्र के सभी कर्मचारी अस्पताल छोड़कर भाग निकले. इस दौरान नाराज परिजनों ने नगर थाना के पुलिस पदाधिकारी के साथ धक्का-मुक्की भी की.

पुलिस को भी उग्र लोगों ने खदेड़ दिया. बाद में मौके पर एसडीओ रवीन्द्र कुमार ने पहुंच कर परिजनों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया. मामला शांत होने के बाद बच्चे के शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है. एसडीओ ने परिजनों को उचित मुआवजा एवं संबंधित पर कार्रवाई का भरोसा दिलाया है. इस मामले में प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है.

 vaishali
मिली जानकारी के अनुसार राजापाकर प्रखंड के नीरपुर पताढ़ पंचायत के पताढ़ गांव निवासी मनीष कुमार बुधवार की सुबह अपने डेढ़ माह के पुत्र लक्ष्य कुमार को बीसीजी का टीका लगाने के लिए सदर अस्पताल लेकर आए थे. सदर अस्पताल के परिसर में स्थित टीकाकरण केन्द्र पर बच्चे को टीका लगवाया. टीका लगते ही बच्चे की हालत बिगड़ने लगी और जब तक वे कुछ समझ पाते तब तक उनके पुत्र की मौत हो गई. बच्चे की मौत के बाद केन्द्र पर मौजूद सभी कर्मी वहां से भाग खड़े हुए.

बच्चे की मौत के बाद काफी संख्या में पहुंचे लोग और परिजन ने बच्चे की मौत में अस्पताल प्रशासन की लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा मचाया. परिजनों का कहना था कि गलत तरीके से सूई देने की वजह से उसके बच्चे की मौत हुई है.हंगामा की सूचना पर पहुंची नगर थाना की पुलिस को भी लोगों ने खदेड़ दिया.  बाद में कई थानों की पुलिस के अलावा पुलिस लाइन से अतिरिक्त पुलिस बल भी सदर अस्पताल पहुंच गई. मौके पर पहुंचे एसडीओ ने लोगों को समझा कर मामला शांत कराया.

उन्होने परिजनों को आश्वस्त किया कि उन्हे सरकारी प्रावधानों के मुताबिक उचित मुआवजा प्रदान किया जाएगा तथा दोषी कर्मी पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी. एसडीओ के आश्वासन के बाद लोग शांत हुए. मृत बच्चे के पिता मनीष कुमार ने बताया कि गलत टीका देने के कारण उसके पुत्र की मौत हुई है. टीकाकरण केन्द्र पर उनके पुत्र को टीका देने के बाद कर्मियों ने उनसे मिठाई खाने के लिए जबरन रुपया भी लिया. टीका लगने के कुछ देर बाद ही बच्चे की हालत बिगड़ने लगी तो वे उसे लेकर टीका देने वाले कर्मी के पास पहुंचे तथा बच्चे को दिखाया तो उसने अबिलंव बच्चे को किसी प्राईवेट नर्सिंग होम में ले जाने की सलाह दी. वे अभी कुछ समझ पाते कि उसके बच्चे की मौत हो गई.

मेडिकल बोर्ड करेगी मामले की जांच

बच्चे की मौत के मामले में एसडीओ के आदेश पर जांच मेडिकल बोर्ड करेगी. अस्पताल में जो वैक्सीन बच्चे को दी गई है, उसे जांच के लिए पटना भेजा जाएगा. यदि उसमें गड़बड़ी पाई गई तो इसके लिए जिम्मेदार लोगों को किसी भी कीमत पर बख्शा नही जाएगा. मामले की जांच के लिए मेडिकल बोर्ड गठन करने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया गया है। यह बोर्ड गुरुवार से अपना काम करना शुरू कर देगी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*