बर्थ-डे के दिन ही हो गई आईएएस की मौत, प्यार से लोग कहते थे वाटरमैन

लाइव सिटीज डेस्क: भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के अधिकारी का बुधवार सुबह यूपी की राजधानी लखनऊ में सड़क किनारे शव मिलने से प्रशासनिक अमला सकते में आ गया है. पुलिस ने इसको ‘रहस्‍यमय परिस्थितियों’ में मौत कहा है. मृतक आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी 2007 बैच के कर्नाटक कैडर के आईएएस थे. वह यूपी के ही बहराइच के रहने वाले थे. पुलिस के मुताबिक उनकी बॉडी हजरतगंज इलाके में मीरा बाई गेस्‍ट हाउस के पास मिली है. कहा जा रहा है कि वह पिछले दो दिनों से यहां ठ‍हरे थे. सबसे पहले सड़क से गुजरते कुछ राहगीरों ने बॉडी को सड़क किनारे देखा और पुलिस को सूचित किया. ऑफिसर की पहचान उसके आई-कार्ड से हुई है. बॉडी को पोस्‍टमार्टम के लिए अस्‍पताल ले जाया गया है.


पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलेगा राज

हजरतगंज के पुलिस निरीक्षक एके शाही ने बताया कि शुरुआती जांच में तिवारी के जबड़े के पास चोट के निशान पाये गये हैं. इसके अलावा उनके शरीर पर कोई चोट नहीं दिखी है. शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया गया है. मामले की जांच जारी है. हालांकि ऐसी चोटें एक्सीडेंट से भी हो सकती हैं. लेकिन साफ तौर पर कुछ रिपोर्ट आने के बाद ही कहा जा सकता है.



जन्मदिन के दिन ही हुई मौत

बुधवार को ही अनुराग तिवारी का जन्‍मदिन था. बहराइच के उनके घर पर बुधवार को आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी के जन्मदिन पर पूजा की तैयारी चल रही थी. वो होते या नहीं उनके नाम से सत्यनारायण भगवान की कथा सुनने का रिवाज उनकी पैदाइश से आज तक चला आ रहा था. लेकिन अचानक सुबह आठ बजे अनुराग तिवारी की एकाएक मौत की खबर ने सबको स्तब्ध कर दिया.

पत्नी से चल रहा था विवाद

अनुराग तिवारी बीते कुछ दिनों से पत्‍नी से हुए विवाद के चलते खासे अवसाद में थे लेकिन किसी को ये नहीं पता था कर्नाटक कैडर के 2007 बैच के होनहार नौकरशाह की इस तरह मौत हो जाएगी.

जनता का दुलारा वाटरमैन

पिछले साल जब अनुराग तिवारी बीदर के डिप्टी कलेक्टर बन कर गए थे तो वहां पानी की कमी से जूझ रहे लोगों के लिए उन्होंने बेहतरीन काम किया था. बीदर में 130 से ज्यादा टैंक और 100 से ज्यादा कुंआ खुदवाकर सुर्खियों में आ गए थे. यही नहीं पांच सौ साल पुरानी सूख चुकी जहाज की बावड़ी की सफाई कराकर फिर से पानी से लबालब कर दिया था और इसके चलते जिले के लोग उन्हें प्यार से वाटरमैन के नाम से पुकारते थे. वो तेजतर्रार और सरल नौकरशाह के रुप में जाने जाते थे.