एक और कथित BSF जवान ने किया खुलासा, खाने के पैसे से अधिकारी करते हैं प्रॉपर्टी का धंधा

लाइव सिटीज डेस्क : खुद को बीएसएफ का जवान बताने वाले एक शख्स ने दावा किया है कि बीएसएफ के अधिकारी जवानों के राशन के पैसों से प्रॉपर्टी का धंधा कर रहे हैं. इस शख्स ने फेसबुक पर वीडियो अपलोड करके यह आरोप लगाया है.

शख्स ने कई बटालियन का उदाहरण देकर बीएसएफ अधिकारियों पर ये आरोप लगाए हैं. वीडियो में शख्स का दावा है कि शिकायत होने के बाद भी अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है. साथ ही कहा कि सभी को सब कुछ पता होने के बाद भी कार्रवाई एकतरफा ही होती है. बताया जा रहा है कि वीडियो में दिखने वाले शख्स का नाम नवरत्न चौधरी है और वह गुजरात के गांधी धाम में बीएसएफ की 150वीं बटालियन में तैनात है.

वीडियो में शख्स ने कहा है, ‘बीएसएफ जवानों के मेस के पैसों का इस्तेमाल बतौर एटीएम करती है. चाहें निरीक्षण हो, ऑडिट तो या फिर किसी अधिकारी का दौरा हो उनकी खातिरदारी के लिए जवानों के मेस से ही पैसे निकाले जाते हैं.

बीएसएफ की 150वीं बटालियन के बारे में आपको एक घटना बताता हूं. जवानों के राशन के लिए 45-50 लाख रुपए जमा होते हैं. यह सारा पैसा कैश के रूप में जमा होता है. लेकिन ये लोग उस पैसे को निकालकर दिल्ली में प्रॉपर्टी डीलर बने हुए थे.

राशन के लिए बटालियन में पैसे नहीं है और ये लोग अपना बिजनेस चला रहे हैं. यह घटना मई-जून 2016 की है. जब यह बटालियन दिल्ली में थी तो जवानों का राशन उधारी में लाया जाता था और राशन का पैसा अपने बिजनेस में लगा लेते थे.’

शख्स ने वीडियो के साथ शिकायत की कॉपी फेसबुक पर अपलोड करते हुए कहा है, ‘जब यह बटालियन गांधीनगर गई तो वहां व्यापारियों ने थोड़ी बहुत तो उधार सामान दिया, लेकिन रकम बढ़ने पर उन्होंने उधार सामान देने से मना कर दिया. इसका असर हुआ जवानों के खाने पर. चाय में चीनी नहीं, खीर में दूध नहीं.

जब इसके बारे में पूछा गया तो कोई जवाब नहीं दिया जाता. इस बारे में सबको पता था, लेकिन आवाज किसी ने नहीं उठाई. मैंने इसकी लिखित में शिकायत की. मेरी शिकायत के बाद जांच के आदेश हुए, लेकिन इतना वक्त गुजर गया अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई.’