भारत ने हमारी नहीं सुनी तो युद्ध भी संभव : चीन

india-china

लाइव सिटीज डेस्क : भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य सिक्किम के डोका ला इलाके में चीनी सैनिकों के घुसपैठ के बाद जारी जुबानी जंग में रोज नयी बातें कही जा रही हैं. इस क्रम में अब चीन के एक विशेषज्ञ ने कहा है कि अगर भारत, चीन की बात नहीं सुनता है तो चीन अपनी सैन्य ताकत का इस्तेमाल करने को मजबूर हो जाएगा. इससे पहले चीन का सरकारी मीडिया और थिंक टैंक यहां तक कह चुके हैं कि अगर दोनों देशों के बीच पैदा हुए विवाद को सही तरीके से संभाला नहीं गया, तो युद्ध भी हो सकता है.

गौरतलब है कि डोका ला में दोनों देशों के बीच बढ़ी तल्खी का यह तीसरा हफ्ता है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स से बातचीत में शंघाई अकैडमी ऑफ सोशल साइंसेज के रिसर्च फेलो हू झियोंग ने कहा – इतिहास का हवाला देते हुए चीन, भारत को समझाने की हर मुमकिन कोशिश कर रहा है और शांति से समस्या के समाधान के लिए ईमानदारी से काम रहा है. अगर भारत नहीं सुनता है, तो फिर चीन के पास समस्या को सुलझाने के लिए सैन्य तरीका आजमाने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचेगा.

india-china

ट्रम्प की नजर में भारत कमजोर

हू ने यह दावा भी किया कि भारत चीन को इसलिए उकसा रहा है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिका दौरे के वक्त ट्रंप के सामने यह साबित करना चाहता था कि भारत, चीन से टक्कर लेने का माद्दा रखता है. हू ने कहा कि ट्रंप ओबामा की तरह नहीं हैं. उन्होंने कहा – ओबामा का मानना था कि भारत उनके लिए इसलिए अहम है क्योंकि दोनों देशों के मूल्य एक जैसे हैं, लेकिन ट्रंप बहुत व्यवहारिक हैं. वह भारत को एक महत्वपूर्ण साथी के तौर पर नहीं देखते, क्योंकि उनकी नजर में भारत, चीन से टक्कर लेने के लिए बहुत कमजोर है.

इधर NDTV की एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय समुद्री क्षेत्र में चीन की पनडुब्बियां देखी गई हैं. दी जा रही जानकारी के अनुसार चीन एंटी पाइरेसी ऑपरेशन के नाम पर पिछले आठ साल से ऐसा करता आ रहा है जबकि वह दक्षिण चीन सागर में किसी को जाने नहीं देता है. जबकि ये भी अंतरराष्ट्रीय वाटर है और वो भी. चीन का यह एक प्रकार का दोहरा रवैया रहा है. रक्षा जानकारों का मानना है कि चीन भारत को घेर रहा है. हिन्द महासागर में उसकी मौजूदगी भारत के लिए चिंता का विषय है.