दिल्ली में भी छठ का माहौल : कल बंद रहेंगे सभी सरकारी ऑफिस

लाइव सिटीज डेस्क : दिल्ली इन दिनों छठ पूजा के खुमार में डूबा हुआ है. दिल्ली के एलजी अनिल बैजल ने 26 अक्टूबर को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है. यह घोषणा उन्होंने दिल्ली सरकार के प्रस्ताव पर की है. अब 26 अक्टूबर को दिल्ली सरकार के सभी कार्यालय बंद रहेंगे.

बता दें कि पिछले साल भी दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने छठ पर्व के मौके पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया था. चार दिन के त्योहार के लिए दिल्ली सरकार ने बेहद चाक—चौबंद व्यवस्था की है. मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के साथ ही सभी मंत्रियों और विधायकों ने भी घाटों पर जाकर सारी व्यवस्था का जायजा लिया था.

Arvind-Kejriwal

विकास मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सरकार ने 565 छठ घाटों का इंतजाम किया है, इनमें से 50 स्थायी घाट हैं. शेष सभी आधे पक्के घाट हैं. ये सारे इंतजाम व्रतियों और उनके परिजनों की सहूलियत के लिए किए जा रहे हैं.

गोपाल राय ने कहा कि आप सरकार ने छठ घाटों के विकास के लिए 20 करोड़ रुपये का अनुदान भी दिया है. विधायक, एसडीएम, सहायक इंजीनियर, जूनियर इंजीनियर हर घाट पर पैनी ​नजर बनाए हुए हैं. त्योहार के दौरान खुद मुख्यमंत्री अ​रविन्द केजरीवाल भी हर इंतजाम पर नज़र रखेंगे.

गौरतलब है कि दिल्ली में करीब 25 प्रतिशत आबादी बिहारियों की है. इस बहाने दिल्ली में बिहार के लोग एक बड़े समूह का निर्माण भी करते हैं. छठ जैसे पर्व में इतने बड़े जनसमूह की आस्था को कोई भी राजनीतिक दल इग्नोर नहीं कर सकता. दिल्ली के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में काफी संख्या में पूर्वांचल के लोग रहते हैं, जो यहां यमुना नदी या तालाबों, झीलों और नहरों के किनारे बने घाटों पर जाकर इस पर्व को मनाते हैं. इस बार बनाए गए घाटों में कुदेसिया घाट, वजीराबाद, सोनिया विहार, नजफगढ़, कालिंदी कुंज इत्यादि जगहों पर बने घाट शामिल हैं. इसके अलावा कई लोग पार्कों और बगीचों में भी कामचलाऊ व्यवस्था करके पूजा करते हैं.