लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा से पास हो गया है और आज इसे ऊपरी सदन राज्यसभा में पेश किया जाएगा. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज इस बिल को पेश करेंगे और दोपहर 12 बजे से बिल पर चर्चा शुरू हो गई है. विपक्ष इस बिल का लगातार विरोध कर रहा है और संविधान विरोधी बता रहा है. इस बिल के खिलाफ बिहार, असम समेत पूर्वोत्तर के कई राज्यों में प्रदर्शन हो रहा है.

राज्यसभा में आज कार्यवाही के दौरान चार सांसद उपस्थित नहीं हैं. सभी सांसदों ने खराब स्वास्थ्य का हवाला दिया है, इनमें माजिद मेनन, वीरेंद्र कुमार, अनिल बलूनी, अमर सिंह शामिल हैं. राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल पर बहस के दौरान बीजेपी की ओर से जेपी नड्डा, भूपेंद्र यादव, विनय सहस्त्रबुद्धे बोलेंगे. बीजेपी की ओर से कुल 10 वक्ता बहस में हिस्सा लेंगे.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि इस सदन के सामने एक ऐतिहासिक बिल लेकर आया हूं, इस बिल के जो प्रावधान हैं उससे लाखों-करोड़ों लोगों को फायदा होगा. अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश में जो अल्पसंख्यक रहते थे, उनके अधिकारों की सुरक्षा नहीं होती थी उन्हें वहां पर समानता का अधिकार नहीं मिला था.

उन्होंने कहा कि जो अल्पसंख्यक धार्मिक प्रताड़ना के कारण भारत में आए, उन्हें यहां पर सुविधा नहीं मिली. पाकिस्तान में पहले 20 फीसदी अल्पसंख्यक थे, लेकिन आज 3 फीसदी ही बचे हैं. इस बिल के जरिए हिंदू, जैन, सिख, बौद्ध, ईसाई, पारसी शरणार्थियों को रियातत मिलेगी.