दिल्ली में ED का भी एक्शन, मीसा भारती और शैलेश पर चार्जशीट

shailesh-misa
मीसा भारती और शैलेश (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : आज शनिवार को एक ओर जहां रांची में लालू प्रसाद और 21 अन्य पर सीबीआई कोर्ट फैसला सुनाने जा रही है. यह फैसला पहले दिन के 11 बजे आना था, जो अब दोपहर 3 बजे आयेगा. उधर राजधानी दिल्ली में प्रवर्तन निदेशालय (ED) भी एक्शन में है. निदेशालय ने आज शनिवार को ही मनी लांड्रिंग के मामले में लालू प्रसाद की बड़ी बेटी राज्यसभा सांसद मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के खिलाफ चार्जशीट फाइल कर दी है. दोनों के खिलाफ यह चार्जशीट दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में फाइल की गई है.

समाचार एजेंसी से मिली जानकारी के अनुसार यह चार्जशीट मीसा भारती, उनके पति शैलेश कुमार और अन्य के खिलाफ दायर की गई है. ED ने इस मामले में मीसा के चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश अग्रवाल को PMLA कानून के अंतर्गत अरेस्ट किया था. अग्रवाल के खिलाफ ED पहले ही चार्जशीट फाइल कर चुकी है.



6 दिसंबर को हुई थी पूछताछ

ED ने करोड़ों के मनी लांड्रिंग मामले में मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार से बीते 6 दिसंबर को ही लंबी पूछताछ की थी. दोनों से मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स में किन लोगों ने निवेश किया है और कंपनी क्या काम करती है, इस विषय में भी विस्तार से पूछताछ की गयी थी. सूत्रों के मुताबिक मीसा से यह भी सवाल पूछा गया कि आखिर इतनी महंगी संपत्ति उन्हें इतने कम पैसे में क्यों दिये गये? छापे के दौरान जब्त दस्तावेजों के अलावा सीए राजेश अग्रवाल और जैन बंधुओं से संबंध को लेकर विस्तृत सवाल पूछे गये थे.

क्या है मामला

ED का आरोप है कि मीसा और उनके पति शैलेश ने 2008-09 में हवाला के जरिए 1.2 करोड़ रुपए में दक्षिणी दिल्ली के पालम के बिजवासन में फॉर्म हाउस खरीदा था. फॉर्म हाउस को जब्त किया जा चुका है. ED ने मीसा भारती और शैलेष के दिल्ली स्थित 3 ठिकानों पर 8 जुलाई को छापे मारे थे. अफसरों ने शैलेष से करीब 8 घंटे पूछताछ की थी. शैलेष को भी पूछताछ के लिए अपने साथ ले जाया गया था.

हाथ में लिस्ट लेकर मीसा पहुंचीं सड़क पर, खरीदा छठ पूजा का सामान, तेजप्रताप भी थे साथ
‘सुभाष ने अपने बच्चों के बजाय मीसा को गिफ्ट में क्यों दी जमीन’

ED ने मीसा भारती के जिन ठिकानों पर छापा मारा था उनमें दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट के पास बिजवासन फार्महाउस, सैनिक फार्म और घिटोरनी के ठिकाने शामिल थे. ये छापे मनी लॉन्ड्रिंग केस में मारे गए थी. इनके अलावा ED के अफसरों ने जैन ब्रदर्स बीरेंद्र और सुरेंद्र कुमार के ठिकानों पर भी सर्च ऑपरेशन चलाया था. जैन ब्रदर्स के खिलाफ भी मनी लॉन्ड्रिंग के तहत जांच की गई.

जैन ब्रदर्स से कनेक्शन

ED को शक है कि कारोबारी बीरेंद्र जैन और सुरेंद्र कुमार जैन ने करीब 8000 करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग की है. जैन ब्रदर्स ने ही मीसा को मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए दिल्ली के बिजवासन में करीब डेढ़ करोड़ का फार्म हाउस दिलाया. मई में मनी लॉन्ड्रिंग केस में मीसा भारती के चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीएम) राजेश अग्रवाल को डिपार्टमेंट ने अरेस्ट कर किया था. इस मामले में शेल कंपनियों के कारोबारी बीरेंद्र जैन और सुरेंद्र कुमार जैन की पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है. फिलहाल वो जेल में हैं. उन पर कई हाई-प्रोफाइल लोगों की ब्लैकमनी को व्हाइट करने का आरोप है.

जैन ब्रदर्स पर आरोप

जैन ब्रदर्स पर आरोप है कि उन्होंने मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार की बंद पड़ी कंपनी मीशैल पैकर्स के 10 रुपए मूल्य के 1 लाख 20 हजार शेयर 90 रुपए प्रीमियम पर खरीदे. फिर इस पैसे का इस्तेमाल दिल्ली के बिजवासन में 1.41 करोड़ रुपए में 3 एकड़ का फार्म हाउस खरीदने में किया गया. ED के मुताबिक जैन ब्रदर्स पर नेताओं और उनके परिवार वालों की ब्लैकमनी को शेल कंपनियों के जरिए लीगल करने के एवज में कमीशन लेने का आरोप है. ED ने इस फार्म हाउस को भी जब्त कर लिया है.