सावधान ! कहीं आपके हाथ में जाली नोट तो नहीं …

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क (अतुल पांडे): भारत में जाली नोट का जाल बिछता जा रहा है, जिससे जनता परेशान है. लेकिन बीते 2016 में नोटबंदी के बाद कुछ समय के लिये यह कारोबार थम सा गया था. अब फिर से यह कारोबार चल पड़ा है. बाजारों में आये दिन जाली नोटों का मिलना देखा जा रहा है. इससे कम समझ वाले लोगों को ज्यादा परेशानी हो रही है. जो लोग नोटों की पहचान करने में सक्षम हैं, उन्हें यह समस्या तो नहीं हो रही है, लेकिन आम व भोले-भाले लोग ठगे जा रहे हैं.

ग्रामीण व शहरी इलाकों में पहले ज्यादातर एक हजार व पांच सौ रुपये के जाली नोट बाजारों में चलाये जाते थे. नोटबंदी के बाद एक हजार व पांच सौ के नोटों को बंद कर दिया गया.

इसके बाद जाली नोटों के कारोबारी नयी तरकीब अपनाते हुए एक सौ, दो सौ व 50 रुपये के नये व पुराने पुराने जाली नोट बाजार में आराम से चला रहे हैं. छोटा नोट होने के कारण एक नजर में कोई शक भी नहीं कर रहा है. इसी का फायदा कारोबारी उठा रहे हैं.

नोट देखने में हूबहू असली जैसा दिख रहा है. नोटबंदी के करीब दो साल बाद जाली नोटों के एक बार फिर चलन से आम लोगों की परेशानी बढ़ गयी है. वहीं जाली नोटों का सिलसिला बंद नहीं हुआ और कई दुकानों पर जाली नोट मिलने से छोटे दुकानदार परेशान और हैरान हैं. अगर प्रशासन जल्द कोई कदम नहीं उठाती है तो जानता की बड़ी परेशानी बन सकती है.