विपक्ष से गोपाल कृष्ण गांधी होंगे उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, नीतीश की भी हैं पसंद

लाइव सिटीज डेस्क : उपराष्ट्रपति चुनाव को लेकर विपक्ष की बैठक समाप्त हो गई है. सोनिया गांधी की अगुवाई में की गई बैठक में उपराष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर गोपाल कृष्ण गांधी के नाम की घोषणा की गई है. हालांकि गोपाल कृष्णा गांधी ने सहमति देने के लिए समय मांगा है.

बता दें कि इस बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शामिल नहीं हुए थे. वहीं चारा घोटाला से जुड़े मामले में रांची के सीबीआई कोर्ट में पेशी के चलते राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद भी बैठक में भाग नहीं ले पाए थे.  मालूम हो कि नीतीश कुमार ने इससे पहले विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर गोपाल कृष्ण गांधी का नाम सुझाया था. लेकिन विपक्ष ने मीरा कुमार को राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर पेश किया है.  वहीं आज की बैठक में उपराष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर गोपाल कृष्ण गांधी के नाम की घोषणा कर कहीं न कहीं नीतीश कुमार को साधने की कोशिश की गई है.  

कौन हैं गोपाल कृष्ण गांधी

बता दें कि गोपाल कृष्ण गांधी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पोते हैं. और रिटायर्ड आईएएस अधिकारी हैं.  साथ ही 2004 से 2009 तक पश्चिम बंगाल के राज्यपाल भी रहे हैं. गोपाल कृष्ण गांधी का परिवार बहुत ही प्रभावशाली रहा है. उनके नाना सी राजगोपालाचारी अंतिम गवर्नर जनरल ऑफ इंडिया भी रहे थे.

गोपाल कृष्ण गांधी 1968 बैच के आईएएस अधिकारी रहे हैं. उन्होंने तमिलनाडु में अपनी सेवाएँ दी थीं. 1985 तक तमिलनाडु में सेवा देने के बाद उन्हें भारत के उपराष्ट्रपति का सेक्रेट्री नियुक्त किया गया था. वहां वे 1987तक कार्य करते रहे. बाद में उन्हें देश के राष्ट्रपति का जॉइंट सेक्रेटरी भी बनाया गया था. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के तौर पर भी उनके कार्य को खूब सराहा गया था.

यह भी पढ़ें-  सीएम नीतीश की ना के बाद अब लालू भी विपक्षी दलों की बैठक में नहीं हुए शामिल !