सोशल मीडिया भी अब सरकार के रडार पर…

लाइव सिटीज डेस्क: भारत सरकार जल्द ही नई सोशल मीडिया पॉलिसी का ऐलान कर सकती है. फिलहाल गृह मंत्रालय इस नीति के तमाम पहलुओं पर विचार करने में जुटी हुई है. इस नीति का मकसद सोशल मीडिया पर गहरी नज़र रखना है ताकि देश विरोधी ताकतें नफरत फैलाने के लिए इसका इस्तेमाल न कर सकें. इसी संबंध में तमाम बिन्दुओं पर चर्चा के लिए बैठक का आयोजन केन्द्रीय सुरक्षा एजेंसियों और गृह मंत्रालय के अधिकारियों के बीच हुई. गृह मंत्रालय का कहना है कि वर्तमान में सिर्फ हमारे पास हां या न पर ही बिन्दु हैं, जिसे सहमति मिलने पर बाद में पूरे नेटवर्क पर लागू किया जा सकेगा.

यह कदम बताता है कि आतंकवादी ने हाल ही में कई आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया है. आतंकी सोशल मीडिया का इस्तेमाल देश और देश विरोधी तत्वों को सूचना देने और भड़काने के लिए भी करते हैं. इसका इस्तेमाल कई बार शरारती तत्वों ने हिंसा फैलाने और देश के विभिन्न हिस्सों में तनाव फैलाने के लिए किया है.

सूत्र बताते हैं कि सोशल मीडिया के दुरुपयोग का सबसे बड़ा उदाहरण जम्मू कश्मीर में सामने आया है. जहां पर पत्थरबाजों ने जमा होने और पथराव के लिए सोशल मीडिया का जमकर इस्तेमाल किया है. बैठक ने सभी एजेंसियों ने इस विषय पर भी चर्चा की कि खुफिया एजेंसियों और सुरक्षा बलों को कैसे इस झूठे प्रचार के नेटवर्क से निपटने के लिए तैयार किया जाए. सोशल मीडिया पर निगाह रखने के लिए सोशल मीडिया और टेक्नोलॉजी के जानकार लोगों की भी भर्ती की जा रही है.

हालांकि मंत्रालय खुद भी उन तरीकों पर विचार कर रही है जिनकी मदद से आपातकाल में जनता से संपर्क के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा सके.