नीरज सिंह हत्याकांड : भाजपा विधायक संजीव ने दी थी शूटर अमन को सुपारी!

Niraj

लाइव सिटीज डेस्क : धनबाद के पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह समेत तीन लोगों की हत्या के मामले में वारदात के 43 दिन बाद अहम खुलासा हुआ है. इससे मृतक नीरज सिंह के चचेरे भाई व झरिया के भाजपा विधायक संजीव सिंह की मुश्किलें बढ़ गयी हैं. वहीं अमन सिंह को धनबाद लाने के लिए पुलिस की एक टीम यूपी के लिए रवाना हो गयी है.



बताया जाता है कि बीती रात यूपी के मिर्जापुर में गिरफ्तार मुख्य शूटर अमन सिंह ने पूछताछ कबूला है कि नीरज सिंह की हत्या के लिए भाजपा विधायक संजीव सिंह ने सुपारी दी थी. शूटर को पांच करोड़ की सुपारी मिली थी. हालांकि पुलिस की ओर से अब तक अधिकृत बयान नहीं आया है. हालांकि सुपारी देने में विधायक संजीव सिंह का फिर नाम आने पर झारखंड की सियासत गरमा गयी है.

इसे भी पढ़ें : नीरज सिंह हत्याकांड : धनबाद जेल में बंद आरोपी भाजपा विधायक भेजे गये रांची जेल 

नीरज सिंह हत्याकांड : मुख्य शूटर अमन सिंह गिरफ्तार , यूपी एसटीफ को मिली सफलता

बता दें कि नीरज सिंह हत्याकांड मामले में यूपी एसटीएफ ने यूपी के मिर्जापुर में मुख्य शूटर अमन सिंह को गिरफ्तार किया था. उसके साथ अभिनव सिंह उर्फ बिट्टू को भी एसटीएफ ने पकड़ा था. गिरफ्तारी के समय दोनों शूटर मिर्जापुर ​जेल में बंद अपराधी रिंकू सिंह से मिलने जा रहे थे. उधर सूत्रों की मानें तो गिरफ्तार शूटर अमन सिंह ने पूछताछ में स्वीकारा है कि भाजपा विधायक संजीव सिंह की ओर से पांच करोड़ की सुपारी दी गयी थी. इस कबूलनामे से भाजपा विधायक संजीव सिंह की मुश्किलें और अधिक बढ़ गयी हैं. गौरतलब है ​कि इसी मामले में विधायक संजीव सिंह रांची जेल में बंद है.

sanjeev-singh

खास बात कि मिर्जापुर में गिरफ्तार अमन सिंह यूपी में ही 13 फरवरी 2016 को सुल्तानपुर के बहुचर्चित पत्रकार करूण मिश्र हत्याकांड का मुख्य आरोपी भी रहा है. अभिनव सिंह भी फैजाबाद में बैंक की कैश-वैन लूट का आरोपी रहा है. अमन तो उस समय जेल भी गया था तथा बाद में जमानत पर बाहर आ गया था. गौरतलब है कि 21 मार्च को नीरज सिंह समेत तीन लोगों को शूटरों ने उस समय भून दिया था, जब वे अपनी गाड़ी से लौट रहे थे. वारदात स्टील गेट के निकट हुई थी. तीनों की मौत गाड़ी में ही हो गयी थी.

इसे भी पढ़ें : पूर्णिमा सिंह बन सकती हैं नीरज सिंह की राजनीतिक उत्तराधिकारी 
गैंग्स आॅफ धनबाद : नीरज के चाचा ने कहा – भाजपा सरकार अपने विधायक को बचाना चाहती है

इस मामले में दिवंगत नीरज के छोटे भाई के बयान पर सरायढेला थाने में मामला दर्ज किया गया था. इसमें भाजपा विधायक संजीव सिंह व उनके छोटे भाई समेत पांच लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया था. वहीं विधायक संजीव सिंह के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट निकलने के बाद उन्होंने अपनी गिरफ्तारी दी थी. फिलहाल गिरफ्तार विधायक को रांची जेल में रखा गया है, जबकि मृतक के परिजन मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं.

Niraj