पीएम मोदी की नीतियों से खुश नहीं थे यह सांसद, लोकसभा से दिया इस्तीफा

लाइव सिटीज डेस्क : लंबे समय से पार्टी से नाराज चल रहे भारतीय जनता पार्टी के सांसद नानाभाऊ पटोले ने लोकसभा से इस्तीफा दे दिया है. इससे गुजरात चुनाव में जुटी भाजपा को महाराष्ट्र से तगड़ा झटका लगा है. बताया रहा है कि महाराष्ट्र के गोंदिया से सांसद नाना ने पार्टी की किसानों के मुद्दों को लेकर योजनाओं से नाखुश होकर यह फैसला लिया है. इससे पहले भी प्रखर किसान नेता नाना पटोले और पार्टी के बीच खींचतान की खबरें आती रही हैं.

इस्तीफे को लेकर पटोले का कहना है कि किसानों की समस्याओं को लेकर वे भाजपा और मोदी सरकार की नीतियों से नाखुश हैं. मालूम हो, महाराष्ट्र के अकोला में किसानों को लेकर प्रदर्शन चल रहे हैं. भाजपा नेता और पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा की अगुवाई में चल रहे इस प्रदर्शन में नाना पटोले ने भी हिस्सा लिया था.



सांसद नानाभाऊ पटोले (फाइल फोटो)

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब नाना पटोले ने मोदी के खिलाफ आवाज उठाई हो. इससे पहले उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी को बिल्कुल भी पंसद नहीं है कि कोई उनसे सवाल पूछे. अगर कोई उनसे सवाल पूछता है तो वह नाराज हो जाते हैं. तब पटोले ने कहा था कि भाजपा सांसदों की एक बैठक में जब उन्होंने ओबीसी मंत्रालय और किसानों की आत्महत्या का मुद्दा उठाना चाहा तो पीएम मोदी मुझसे नाराज हो गए थे. पीएम ने मुझ गुस्से में चुप हो जाने के लिए कह दिया.

फिल्म पद्मावती पर भड़के शत्रुघ्न सिन्हा, PM नरेंद्र मोदी से भी कहा चुप्पी तोड़ने को

यही नहीं पटोले लगातार प्रधानमंत्री मोदी के कामकाज के तरीकों की आलोचना करते रहे हैं. उन्होंने अक्टूबर महीने में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी. दोनों के बीच करीब ढाई घंटे तक चर्चा हुई थी. तब माना जा रहा था कि वह शिवसेना में शामिल हो सकते हैं.

बता दें कि पटोले ने इससे पहले 2009 में किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस से नाराज होकर उन्होंने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया था. 2014 के चुनाव में बीजेपी ने उन्हें सांसद का टिकट दिया था. वह चुनाव जीते और पहली बार सांसद बने. बावजूद इसके वह मोदी के प्रभाव में आए बिना अपनी बात मुखरता से कहते रहे थे.