हत्या में बदला IAS अनुराग तिवारी की मौत का मामला

anurag

लाइव सिटीज डेस्क : IAS अनुराग तिवारी की मौत का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है. इसे लेकर यूपी पुलिस की चुनौती बढ़ गयी है. आइएएस अनुराग तिवारी की मौत का मामला हत्या में बदल गया है. सोमवार को मृतक के भाई ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला यूपी के हजरतगंज थाने में दर्ज कराया है. भाई ने यूपी के सीएम से सीबीआई जांच की भी मांग की है.



गौरतलब है कि IAS अनुराग तिवारी का शव 17 मई को यूपी की राजधानी लखनऊ में सड़क किनारे मिला था. उनका शव हजरतगंज इलाके में मीरा बाई गेस्‍ट हाउस के पास मिला था. वे पिछले दो दिनों से वहां ठ‍हरे हुए थे. अनुराग तिवारी के शव की पहचान उनके आई-कार्ड से हुआ था. वे 2007 बैच के कर्नाटक कैडर के IAS थे तथा यूपी के ही बहराइच के रहने वाले थे.

सोमवार इस मामले में नया मोड़ आ गया. मृतक के भाई मयंक ने अपने भाई अनुराग तिवारी की मौत को हत्या करार दिया है. उन्होंने अज्ञात के खिलाफ यूपी के हजरतगंज थाने में हत्या की प्राथमिकी दर्ज करायी है. इससे अब पुलिस की जांच की चुनौती बढ़ गयी है. मालूम हो कि पुलिस ने इसे रहस्मयी मौत बताया था. वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अनुराग तिवारी की मौत का कारण दम घुटना बताया था. खास बात कि प्रत्यक्षदर्शियों ने शव मिलने के समय हत्या की आशंका जतायी थी. इसके पीछे कहना था कि मृतक का मुंह कुचला हुआ था तथा सिर पर भी चोट के निशान थे.

इसे भी पढ़ें : सड़क के किनारे मिला IAS अधिकारी का शव, जांच में जुटी पुलिस

उधर मृतक IAS अनुराग तिवारी के भाई मयंक ने कहा है कि यूपी पुलिस शायद मामले की तह तक नहीं पहुंचे. इसलिए हमने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया है कि इस मामले की सीबीआई जांच करायी जाये. मालूम हो कि इस मामले को पिछले दिनों यूपी के दोनों सदनों में जम कर हंगामा हुआ था. सरकार ने कहा था कि इसकी निष्पक्ष जांच की जा रही है. बहरहाल अनुराग तिवारी की मौत के मामले में हत्या की प्राथमिकी दर्ज होने से यूपी पुलिस समेत वहां की सरकार की भी चुनौती बढ़ गयी है.

इसे भी पढ़ें : बर्थ-डे के दिन ही हो गई आईएएस की मौत, प्यार से लोग कहते थे वाटरमैन