झारखंड में नहीं रुक रही किसानों की आत्महत्या, अब बिरसाई उरांव ने दी जान

लाइव सिटीज डेस्क : पूरे देश के अन्नदाताओं की तरह झारखंड के किसान भी आर्थिक तंगी से परेशान हैं. किसानों की आत्महत्या के मामले नहीं रुक रहे हैं. फिर एक किसान ने आत्महत्या कर ली. माह भर में ही चार किसानों के सुसाइड करने के मामले सामने आ चुके हैं. चौथा मामला गुमला के घाघरा का है.

जानकारी के अनुसार गुमला के घाघरा थाना क्षेत्र में एक किसान ने आत्महत्या कर ली. शिवराजपुर पंचायत स्थित बड़काडीह गांव के किसान बिरसाई उरांव (60) ने फांसी लगा ली. वे गरीबी से परेशान थे. मॉनसून की बारिश होने से बिरसाई खुश थे और बैल खरीदने पनसो बाजार गये थे. लेकिन बेटी की शादी से चिंतित बिरसोई को जोड़े बैल की कीमत ने टेंशन में ला दिया. वे खाली हाथ घर लौट आये और घटना को अंजाम दिया.

ग्रामीणों के अनुसार बिरसाई मॉनसून के सकारात्मक रूख देखकर काफी खुश थे. वे इस बार अच्छी खेती कर अगले साल बेटी की शादी करने की तैयारी में लगे हुए थे. सबसे दुखद स्थिति यह थी कि न केसीसी लोन मिला था और न ही वृद्धावस्था पेंशन ही उसे मिल रही थी. पत्नी सुकरो देवी की मानें तो पिछले एक सप्ताह से वे बैल खरीदने में लगा था, लेकिन पैसा ही पूरा नहीं हो पा रहा था. हिम्मत करके बाजार गये भी तो दाम सुन कर ही उन्हें सदमा लग गया. हालांकि पत्नी ने उन्हें समझाया था. इसी बीच अचानक यह घटना हो गयी.

पत्नी सुकरो देवी ने अपने पति की मौत को लेकर थाने में यूडी केस दर्ज करायी है. दर्ज केस में उन्होंने कहा है कि घर में आर्थिक तंगी थी, जिससे वे काफी परेशान रहते थे. उन्हें वृद्धावस्था पेंशन भी नहीं मिलती थी, जबकि इसके लिए उन्होंने कई बार आवेदन दिया था. साथ ही बेटी गंदुरी कुमारी की शादी को लेकर भी वे काफी चिंतित रहते थे.

बता दें कि बिरसाई उरांव का यह आत्महत्या का मामला झारखंड में चौथा है. इसके पहले तीन किसानों ने सुसाइड कर लिया है. पहली घटना 10 जून को पिठोरिया के सिमलबेड़ा गांव में हुई थी, कलेश्वर महतो ने फांसी लगा कर अपनी जान दे दी थी. उनकी पत्नी के नाम पर 40 हजार का लोन लिया था. यह लोन बढ़ कर 61 हजार हो गया था. इसी तरह 15 जून को पिठोरिया के ही सुतियांबे गांव में आत्महत्या की दूसरी घटना सामने आयी. तब किसान बालदेव महतो ने कुएं में कूद कर सुसाइड कर लिया था. इसके बाद तीसरा मामला 2 जुलाई को सामने आया. ओरमांझी के विजांग गांव में किसान राजदीप ने कीटनाशक खा लिया था. इसमें उनकी मौत हो गयी थी.

इसे भी पढ़ें : रांची में फिर एक किसान ने किया सुसाइड, सकते में झारखंड सरकार 
संजय सिंह बोले – किसी भाजपा नेता को किसानों पर श्वेतपत्र मांगने का हक़ नहीं 
किसान बेहाल हैं और कृषि मंत्री मोतिहारी में बाबा रामदेव के साथ योग कर रहे हैं : जदयू