पीएम बोले : गोरक्षा के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं, इशारों में लालू प्रसाद पर भी कमेंट

लाइव सिटीज डेस्क : गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा से लेकर राजनीति में व्याप्त भ्रष्टाचार पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि गोरक्षा के नाम पर कानून को हाथ में लेने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी. साथ ही राजनीति में व्याप्त भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने की भी उन्होंने बात कही. पोलिटिकल कॉरिडोर में माना जा रहा है कि पीएम मोदी का इशारों में यह कटाक्ष राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर किया गया है.

दरअसल संसद का मॉनसून सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है. इसके पहले रविवार को यह सर्वदलीय बैठक बुलायी गयी थी. इसमें केवल जदयू की ओर से किसी भी प्रतिनिधि ने भाग नहीं लिया. इसे लेकर पोलिटिकल कॉरिडोर में तरह तरह के कयास लगाये जा रहे थे. लेकिन, जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने यह कह कर विराम लगा दिया कि व्यस्तता के कारण इसमें कोई नहीं जा सका. वहीं सूत्रों की मानें तो राजद की ओर से सांसद जयप्रकाश नारायण यादव ने इसमें शिरकत की. इसके अलावा इसमें कांग्रेस समेत अन्य दलों के लोग भी मौजूद रहे.

मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर जो हिंसा कर रहे हैं, उनके खिलाफ कठोर से कठोर कार्रवाई की जायेगी. देश में गोमाता की रक्षा के लिए कानून है. कानून हाथ में लेना कतई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. सभी राज्य सरकारों को इसे लेकर कार्रवाई करनी चाहिए.’ पीएम ने इसे लेकर ट्वीट भी किया है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकारों को यह भी देखना चाहिए कि कहीं कुछ लोग गोरक्षा के नाम पर अपनी व्यक्तिगत दुश्मनी का बदला तो नहीं ले रहे हैं. देश की छवि पर भी इसका असर पड़ रहा है.

 इसके अलावा बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाई जो लड़ाई शुरू हुई है, वह जारी रहेगी. सभी पार्टियों से इसमें सहयोग देने की जरूरत है. उन्होंने सभी पार्टियों से अपील की है कि वे भ्रष्ट नेताओं को दूर करते हुए, कानूनी कार्रवाई को आगे बढ़ाने लिए संघर्ष करें. उन्होंने यह भी कहा कि सार्वजनिक जीवन में स्वच्छता के साथ ही भ्रष्ट नेताओं पर कार्रवाई आवश्यक है. हर दल ऐसे नेताओं को पहचानकर अपने दल की राजनीतिक यात्रा से अलग करे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा है कि जीरो टॉलरेंस पर काम करने की जरूरत है. भ्रष्टाचार किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं करनी चाहिए. वहीं प्रधानमंत्री के इस बयान को पोलिटिकल कॉरिडोर में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर कटाक्ष के रूप में माना जा रहा है. गौरतलब है कि सीबीआई छापेमारी के बाद इन दिनों लालू प्रसाद को लेकर महागठबंधन में उथल पुथल मचा हुआ है. ऐसे में नरेंद्र मोदी का यह बयान पोलिटिकल कॉरिडोर में लालू प्रसाद से जोड़ कर देखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : नीतीश सरकार को सुप्रीम कोर्ट से फटकार, पेंडिंग वेतन पर 4 सप्ताह में मांगा जवाब