‘जब तक रेलवे में सुधार नहीं होगा, बुलेट ट्रेन के लिए एक ईंट भी नहीं रखने देंगे’

raj-thackray

लाइव सिटीज डेस्कः मोदी सरकार पर एक बाद एक हमले हो रहे हैं. इस बार एमएनएस के चीफ राज ठाकरे ने केंद्र और राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला है. मुंबई के एलफिंस्टन स्टेशन पर हुए हादसे में मारे गए 22 लोगों की मौत पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) के चीफ राज ठाकरे ने केंद्र और राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला है. उन्होंने रेलवे की सुविधाओं पर आपत्ति जताते हुए सरकार के बुलेट ट्रेन के सपने का विरोध किया. ठाकरे ने साफ कहा है कि वे महाराष्ट्र में बुलेट ट्रेन की एक ईंट नहीं लगने देंगे.

उन्होंने कहा कि हमें पाकिस्तान और आतंकवादियों जैसे दुश्मनों की जरूरत नहीं है, क्योंकि लोगों को मारने के लिए भारतीय रेलवे बहुत है. उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, जब बारिश के बाद ऐसे हालात बने हो. ठाकरे 5 अक्तूबर को ऐसे हादसों की लिस्ट रेलवे को सौंपेंगे और कहा कि अगर फिर भी सही कदम नहीं उठाए गए तो वे अपने तरीके से हालात पर काबू पाएंगे. राज ठाकरे ने ऐलान किया है कि वे 5 अक्तूबर को मोर्चा निकालेंगे और वेस्टर्न रेलवे हेडक्वॉटर पहुंचकर रेलवे के लिए इंफ्रास्टक्रचर के बारे में पूछेंगे.

बता दें कि शुक्रवार की सुबह एलफिंस्टन स्टेशन पर जो मंजर था वो दिल दहलाने वाला था. एलफिंस्टन स्टेशन पर बना करीब 100 साल पुराना ओवरब्रिज लोगों के दबाव को नहीं सह सका. ओवरब्रिज पर भगदड़ मची और 22 लोग काल के गाल में समा गये. एक दूसरे को कुचलते हुये लोग दूसरे की परवाह किए बगैर अपनी सलामती के लिए भागते रहे.

दूसरी और एलफिंस्टन स्टेशन पर भगदड़ के लिए रेलवे ने सफाई दी कि बारिश की वजह से लोग ओवरब्रिज पर जरूरत से ज्यादा संख्या में आ गए और ब्रिज टूटने या शार्ट सर्किट की अफवाह से भगदड़ के हालात पैदा हो गए.

हालांकि रेल प्रशासन ने इस तथ्य पर अब तक सफाई नहीं दी है कि ओवरब्रिज को लेकर दो सांसद पिछले दो साल से चिट्ठी लिख रहे थे जिस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. भगदड़ में मारे गए लोगों के परिजनों को 5-5 लाख के मुआवजे का मरहम लगाने का ऐलान कर दिया गया.

इन सबके बीच एलफिंस्टन एकलौता उदाहरण नहीं है जहां रेलवे की चरमराती व्यवस्था नजर आती है, बल्कि देश के तमाम बड़े और भीड़भाड़ वाले स्टेशनों का यही हाल है. रेलवे संरक्षा और सुरक्षा के वादों के साथ दावे भी करती है. लेकिन मिलियन डॉलर सवाल ये है कि वो समय कब आ आएगा जब यात्री तसल्ली के साथ रेल यात्रा कर सकेंगे. हम आप को सिलसिलेवार ये बताने की कोशिश करेंगे कि एलफिंस्टन जैसे हादसे क्यों होते हैं.

यह भी पढ़ें – सत्यपाल मलिक बनाए गए बिहार के नए गवर्नर, गंगा बाबू को मेघालय का जिम्मा
खुशियां लेकर आया दुर्गा पूजा का त्‍योहार, 9 लाख में 1.5 व 2.5 BHK का फ्लैट पटना में 
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा