सऊदी अरब में हो रहा है बड़ा सामाजिक बदलाव, अब दिखेगा सिनेमा भी

लाइव सिटीज डेस्क : रूढ़िवादी मुस्लिम देश सऊदी अरब तेजी से सामाजिक बदलाव की ओर बढ़ रहा है. महिलाओं के कार ड्राइविंग और स्टेडियम में जाकर खेल देखने की इजाजत तो मिल गई है. अब इस बदलाव की नई फेहरिस्त में वहां सिनेमाघरों पर लगे 3 दशक पुराने प्रतिबंध को हटाना भी शामिल हो गया है. वहां के संस्कृति और सूचना मंत्रालय का कहना है कि विभाग तत्काल प्रभाव से सिनेमाघरों को लाइसेंस जारी करना शुरू कर देगा और अगले साल मार्च तक पहला सिनेमाघर शुरू हो सकता है.



माना जा रहा है कि सामाजिक और आर्थिक स्थिति में सुधार की कवायद क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के विजन 2030 कार्यक्रम का हिस्सा है. इस फैसले के बाद अमेरिका समेत दुनिया भर के कई देशों ने सऊदी अरब के प्रिंस की तारीफ की है. मोहम्मद बिन सलमान सऊदी अरब में अब तक के सबसे लोकप्रिय और पसंदीदा प्रिंस साबित हो रहे हैं.

सऊदी अरब में इस साल हुए हैं कई बदलाव
सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने इस साल सोशल रिफॉर्म को लेकर अपने देश में कई बदलाव किए हैं. हाल ही में सऊदी अरब में पहली बार महिलाओं को ड्राइविंग करने की अनुमति मिली है, जिसकी शुरूआत अगले साल हो जाएगी. इसके अलावा महिलाओं को म्यूजिक कॉन्सर्ट, स्टेडियम में जाने की आजादी दी गई है. वहीं, इस्लामिक कानूनों का पालन कराने वाली धार्मिक पुलिस “मुतावा’ के अधिकार कम कर दिए गए हैं, जो अक्सर महिलाओं को परेशान करते थे.

सऊदी अरब में महिलाओं को तोहफा, ड्राइविंग के बाद अब स्‍पोर्ट्स स्‍टेडियम में भी एंट्री

क्राउन प्रिंस का विजन 2030 क्राउन प्रिंस मोहम्मद सलमान अपने देश में सोशल रिफॉर्म की शुरूआत कर विजन 2030 का लक्ष्य बनाया है, जिसका उद्देश्य सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था को सिर्फ ऑयल पर निर्भरता को कम करना है. क्राउन प्रिंस चाहते हैं कि सऊदी अरब की अर्थव्यस्था पर देश के सभी संसाधनों का समान रूप से प्रयोग हो. हालांकि, सऊदी अरब में सोशल रिफॉर्म लोगों को जरूर पसंद आ रहा है, लेकिन 32 साल के क्राउन प्रिंस सलमान इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर आ गए हैं.