गरीब दारु पीकर देते है वोट, नेता 5 साल मुर्गा बनाकर घुमाते हैं : योगी के मंत्री

लाइव सिटीज डेस्क : उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री ओमप्रकाश राजभर एक बार फिर अपने बयान को लेकर विवादों में हैं. अपनी ही सरकार पर सवाल उठाने वाले राजभर ने इस बार वोटरों को लुभाने वाले नेताओं के चुनावी हथकंडों पर तंज कसा है. योगी सरकार के मंत्री होने के बावजूद राजभर अक्सर सार्वजनिक मंचों से बीजेपी पर हमलावर नजर आते रहे हैं. हाल ही में संपन्न हुए निकाय चुनाव में उनकी बगावती सुर सरेआम सुनने को मिले.

निकाय चुनाव में भी उन्होंने शराब को लेकर बयान दिए. चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने कहा था कि जो लोग वोट पाने के लिए शराब बांट रहे हैं, उनसे पेटी लेकर रख लो और बाद में कह देना कि शराब से नशा ही नहीं हुआ.



रविवार को यूपी के बलरामपुर में उन्होंने कहा, ‘बाटी-चोखा कच्चा वोट, दारू-मुर्गा पक्का वोट.’ इस जुगलबंदी को राजभर ने तफ्सील से भी समझाया. उन्होंने मंच से गरीबों को संबोधित करते हुए कहा, ‘सारे गरीब दारू पीते हो, मुर्गा खाकर वोट देते हो और ये दिल्ली, लखनऊ जाने वाले नेता 5 साल तुम्हें मुर्गा बनाके घुमाते हैं.’

राजभर ने कहा कि जाति के नाम पर नहीं बल्कि गरीबी के आधार पर आरक्षण दिया जाना चाहिए क्योंकि हर जाति में गरीबी है. ओबीसी आरक्षण कोटे का लाभ केवल कुछ जातियों तक ही सीमित हो गया है. शिक्षा से गरीबी दूर की जा सकती है. सभी को बच्चों की शिक्षा के लिए यथासंभव प्रयास करना चाहिए.

भाजपा सांसद का बड़ा खुलासा, मोदी सरकार के दबाव में दिखाए गए GDP के अच्छे आंकड़े 

उन्होंने कहा कि ओबीसी के आरक्षण में संशोधन के लिए केंद्र व प्रदेश सरकार को प्रस्ताव देकर मांग की गई है कि इसमें पिछड़ी, अतिपिछड़ी व सर्वाधिक पिछड़ी कटेगरी निर्धारित आरक्षण का लाभ दिया जाए. उन्होंने कहाकि शिक्षा में बेटा व बेटी में अंतर न करें. बेटा-बेटी को समान शिक्षा दिलाएं. शिक्षा से गरीबी दूर होने के साथ-साथ विकास का मार्ग भी प्रशस्त होता है.