इस राज्य में जारी हुआ अनूठा फरमान, दिन में भी जले वाहनों के हेडलाइट

लाइव सिटीज डेस्क : यातायात सुरक्षा को देखते हुए झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य में चलने वाले वाहनों की हेडलाइटों को जनवरी से दिन में भी ऑन रखने के निर्देश दिए हैं, ताकि सड़क दुर्घटनाओं को रोका जा सके. एक बयान में कहा गया, ‘सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि दिन के समय वाहनों की हेडलाइटें ऑन होनी चाहिए. इसे गांव से लेकर शहर और हाइवे पर लागू किया जाएगा.’ रघुवर दास ने अधिकारियों से एक साल में सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के लिए कहा है.

बता दें कि झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के लिए कई दिशा निर्देश जारी किए. जिसमें दिन के समय हेडलाइट ऑन रखना शामिल है. उन्होंने निर्देश दिया कि उन प्रमुख राजमार्गो पर ट्रॉमा सेंटर बनाया जाए, जहां दुर्घटनाओं की आशंका अधिक है. सड़क सुरक्षा की समीक्षा के दौरान रघुवर दास ने कहा कि सड़क दुर्घटना के तीन मुख्य कारण हैं लोगों का हेलमेट न पहनना, शराब पीकर और तेज गति से गाड़ी चलाना.



रघुवर दास ने अधिकारियों से यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि राज्य में यातायात नियमों का सख्ती से पालन किया जाए और निर्देश दिया कि पीछे की सीट पर बैठने वालों के लिए भी हेलमेट अनिवार्य होना चाहिए. उन्होंने अधिकारियों से कहा कि हाइवे पर गश्त के दौरान ब्रेथ एनालाइजर का इस्तेमाल किया जाए और बसों और ट्रकों के चालकों के बीच शराब से दूर रहने के लिए जागरूकता पैदा की जाए.

झारखंड में ‘भूख’ से तड़पकर मर गई बच्ची, आधार-राशन कार्ड के चक्कर ने ले ली जान

बता दें कि और कई राज्यों में पहले से भी यह कानून के रूप में है. दिन में अगर आप अपने दुपहिया वाहन की लाइट ऑन नहीं रखते हैं तो इसे ट्रैफिक नियमों के विपरीत माना जाएगा और इसके लिए आपको जुर्माना भी भरना पड़ेगा. इससे पहले खुद सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई सड़क सुरक्षा कमेटी ने भी यह दावा किया थी कि एएचओ तकनीक से सड़क दुर्घटनाओं को कम करने में काफी मदद मिलेती है.