शर्मनाक हरकत : राजनीति चमकाने के लिए आदिवासी महिलाओं की न्यूड तस्वीरें कर दी वायरल

लाइव सिटीज डेस्क : लोग अपनी राजनीति चमकाने के लिए क्या क्या तिकड़म करते हैं इसका ताजा उदाहरण देखने को मिला है झारखंड के धनबाद में. जहां डीवीसी विस्थापित आदिवासी महिलाओं की नंगी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल है. बता दें कि झारखंड में एक आदिवासी नेता ने महिलाओं के साथ ऐसी शर्मनाक हरकत कर दी कि उसके खिलाफ राज्य भर में प्रदर्शन हो रहे हैं. यही नहीं, उस पर आदिवासी समाज केस भी दर्ज करवाने वाला है. इस तस्वीर को लेकर आदिवासी नाराज हैं.



इस तस्वीर में नजर आ रही महिला ने भी कहा है कि उसकी यह तस्वीर धोखे से ली गयी है और उसे सोशल साइट पर डाला गया है. महिला ने बताया कि नेता के कहने पर उन्होंने यह तस्वीर खिंचवाई थी. उनका कहना था कि आपकी मांग और विरोध की यह तस्वीर पीएम मोदी तक पहुंचेगी. इस तस्वीर के वायरल होने के बाद आदिवासी समाज नाराज है. महिला के गांव में भी विरोध जारी है. आदिवासी समाज के कई नेता और समाजिक संगठनों ने इसकी निंदा की है. कई संगठन तो इस कदर नाराज हैं कि धमकी के साथ- साथ माफी और गिरफ्तारी की भी मांग कर रहे हैं.

मिली जानकारी के अनुसार, आदिवासी महासभा के नेता रामाश्रय सिंह ने आदिवासी बहू-बेटियों की निर्वस्त्र तस्वीरें सोशल खींची और उन्हें सोशल मीडिया पर डाल दिया. साथ ही यह तस्वीरें राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को बतौर ज्ञापन और प्रेस विज्ञप्ति के रूप में भेजी. बताया जा रहा है कि आदिवासी महिलाओं की तस्वीरें रामाश्रय मिश्रा ने सिर्फ इस शर्त पर खिंचवाई थीं कि यह राज्य सरकार को भेजी जाएंगी. लेकिन उसने सरकार को तस्वीरें भेजी तो सही साथ ही उन्हें फेसबुक अकाउंट पर डाल दिया. यह तस्वीरें वायरल हो गई.

झारखंड जैसी बदकिस्मती : पूरा हिमाचल डोल रहा था, पर ‘धूमल-धूमल’ नहीं बोल रहा था

इन आदिवासी महिलाओं को सोशल मीडिया की समझ नहीं है. लेकिन निर्वस्त्र तस्वीरों के वायरल होने की बात जब उनके गांवों में पहुंची तो आदिवासी समाज बेहद नाराज हो गया. इस घटना को लेकर पूरे झारखंड में प्रदर्शन हो रहे हैं और रामाश्रय के खिलाफ केस दर्ज किये जाने की मांग हो रही है. वहीं, इस बारे में रामाश्रय मिश्रा का कहना है कि मैंने फोटो सोशल मीडिया पर डालकर गलती की. इसके लिए मैं दुखी हूं. सभी फोटो सोशल मीडिया से हटा ली गई है. उन्होंने कहा कि डीवीसी नौकरियों के लिए 50 साल से समाज संघर्ष कर रहा है. 30 बार सरकार ने समझौता किया, लेकिन मुकर गई.