राजनाथ बोले : मुठभेड़ में शहीद पैरामिलिट्री जवानों के परिजनों को मिलेंगे एक करोड़

लाइव सिटीज डेस्क: गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को बड़ी घोषणा की है. गृहमंत्री ने कहा कि मुठभेड़ में शहीद होने वाले पैरामिलिट्री जवानों के परिजनों को अब एक करोड़ रुपये की राशि केन्द्र सरकार की तरफ से दी जाएगी. राजनाथ सिक्किम के नाथू ला में इंडो—तिब्बत बॉर्डर पुलिस के शेराथांग सीमा चौकी पर सैनिक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे.

राजनाथ ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि अर्धसैनिक बलों में हवलदार के पद पर तैनात 34000 सिपाहियों को हेड—कांस्टेबल के तौर पर तरक्की देने की भी घोषणा की. राजनाथ ने कहा कि देश अर्धसैनिक बलों की सेवा और शहादत को सराहता और उस पर गर्व करता है. हमारे जवानों की शहादत को पैसे से तौला नहीं जा सकता है. लेकिन शहीदों के परिवारों को कोई समस्या नहीं आनी चाहिए. इसलिए मैं शहीद होने वाले हर पैरामिलिट्री जवान के परिवार को एक करोड़ रुपये देने की घोषणा करता हूं. यह घोषणा ऐसे वक्त में हुई है जब हाल ही में छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों ने हमला करके 25 सीआरपीएफ जवानों को शहीद कर दिया था.

rajnath-singh

गृहमंत्री ने कहा कि हमने पैरामिलिट्री जवानों की बेहतरी के लिए तमाम काम किए हैं और आने वाले वक्त में और भी काम करने वाले हैं. राजनाथ सिंह ने सभी जवानों से कहा कि वह गृह मंत्रालय द्वारा जारी मोबाइल एप के जरिए अपनी समस्याएं, शिकायतें और निजी समस्याएं भी साझा कर सकते हैं. सरकार उनकी हर समस्या का समाधान करने की पूरी कोशिश करेगी.

सिनो—भारत सीमा की कुल लंबाई 3,488 किमी है, जिसमें से 1,597 किमी जम्मू—कश्मीर से गुजरती है जबकि शेष हिमाचल प्रदेश में 200 किमी, उत्तराखंड में 345 किमी, अरुणाचल प्रदेश में 1,126 किमी से गुजरती है. यह सीमा पूर्ण रूप से निर्धारित और निश्चित नहीं है और वास्तविक सीमा रेखा बनाने का काम अभी भी जारी है.

आईटीबीपी इसी सीमा की हिफाजत करती है. सुरक्षा के लिए आईटीबीपी ने 173 सीमा सुरक्षा चौकियां स्थापित की हैं. इन सुरक्षा चौकियों में से 35 जम्मू—कश्मीर, 71 हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड में, जबकि 67 सिक्किम और अरुणाचल में स्थापित हैं. कार्यक्रम के बाद गृहमंत्री आईटीबीपी और सेना के जवानों से भी मुखातिब हुए.

इसे भी पढ़ें –

भूख हड़ताल पर बैठे शहीद के परिजनों ने योगी से मिलने से किया इंकार

जमशेदपुर में बवाल : महज 24 घंटे में 12 हत्याएं, कहां जा रहा है झारखंड!

एयर चीफ धन्वा ने कहा, किसी भी समय बड़े ऑपरेशन के लिए तैयार रहे वायुसेना

चुनाव आयोग की चुनौती : 3 जून से हैक कर दिखाएं EVM मशीन