लाइव सिटीज डेस्क: भारत ने दक्षिण एशिया का पहला क्रॉस बॉर्डर प्रोजेक्ट लॉन्च किया है. जी हां, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये देश वासियों को यह जानकारी दी है. यह दक्षिण एशिया की पहली क्रॉस-बॉर्डर पेट्रोलियम उत्पादों की पाइपलाइन भी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट का उद्घाटन किया. इसके तहत भारत पाइप लाइन के जरिये सीधे नेपाल में तेल और डीजल का सप्लाई करेगा.

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा, दक्षिण एशिया और भारत का यह पहला क्रॉस बॉर्डर प्रोजेक्ट रेकॉर्ड समय में पूरा किया गया है. जितना समय इस पेट्रोलियम पाइप लाइन को बिछाने के लिए तय किया गया था, उससे आधे समय में इस प्रोजेक्ट को पूरा किया गया. इसका श्रेय नेपाल सरकार के सहयोग को और हमारे संयुक्त प्रयासों को जाता है.

पीएम मोदी ने दोनों देशों के बीच आपसी संबंध और सहयोग पर जोर दिया वहीं नेपाल के प्रधानमंत्री के पी ओली ने भी प्रसन्‍नता जाहिर की. फिलहाल भारत और नेपाल के बीच पेट्रोलियम उत्‍पादों का ट्रांसपोर्ट 1973 में बनाए गए नियमों के आधार पर ही हो रहा है.

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली ने कहा, ‘भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के साथ संयुक्‍त तौर पर पाइपलाइन उद्घाटन करते हुए खुशी हो रही है. मेरे मित्र मोदी जी और भारत सरकार को धन्‍यवाद.’ साथ ही उन्‍होंने इस परियोजना में शामिल नेपाल की टीम को भी बधाई दी और कहा, ‘ मोदी जी का सबका साथ, सबका का विकास, सबका विश्वास और मेरा समृद्ध नेपाल, सुखी नेपाली के लिए हमारी प्रतिबद्धता और प्रयास से हमारे देशों में विकास होगा.’