प्यार और मां-बाप में परिवार को चुनती हैं भारतीय लड़कियां: सुप्रीम कोर्ट

लाइव सिटीज डेस्क: प्यार में नाकाम होने की या असफल प्रेम कहानियों की बड़ी तादाद के बीच सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर अपना अलग ही नजरिया पेश किया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि भारत में बात जब परिवार, माता—पिता और प्रेम के बीच हो, तो भारतीय लड़कियां माता—पिता को ही तरजीह देती हैं. यह भारतीय परिदृश्य में बेहद आम है. यह बात जस्टिस एके सीकरी और अशोक भूषण की बेंच ने एक मामले की सुनवाई के दौरान अपनी टिप्पणी में लिखी है. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी की सजा और उम्रकैद को खारिज कर दिया.

दरअसल इस युवक ने अपनी प्रेमिका के साथ गुपचुप शादी रचाई थी और दोनों ने परिवार के राजी न होने पर साथ में आत्महत्या का फैसला किया था. 1995 में घटित हुए इस वाकये में 23 साल की प्रेमिका को नहीं बचाया जा सका था, जबकि प्रेमी बच गया. पुलिस ने उसे युवती की हत्या का आरोपी बताया था. सुप्रीम कोर्ट ने पाया कि लड़की ने पहले मर्जी न होते हुए भी परिजनों की इच्छा के मुताबिक शादी के लिए हां कर दी. लेकिन बाद में उसने अपना मन बदल दिया. इसीलिए आत्महत्या की जगह पर चूड़ियां, वरमाला और सिन्दूर भी पाया गया था.

कोर्ट ने पाया कि लड़की ने घर वालों के रजामंद न होने की बात प्रेमी को नहीं बताई. उसने यह भी नहीं बताया कि वह उससे शादी नहीं कर सकेगी. ये लड़की की तरफ से उठाया हुआ कदम था, जिसके मुताबिक उसने मां—बाप के फैसले को माना और प्यार को कुर्बान कर दिया. हालांकि यह उसकी मर्जी के विरुद्ध था. लेकिन यह इस देश में लड़कियों की बेहद आम सोच और धारणा है.

कोर्ट ने पाया कि पीड़ित और आरोपी दोनों एक दूसरे से बेहद प्यार करते थे. वहीं लड़की के पिता ने भी कोर्ट में यह स्वीकार किया कि दोनों के बीच जातीय समानता न होने के कारण परिवार इस शादी के लिए तैयार नहीं था. प्रेमी पर लड़की के परिजनों ने उसकी हत्या का आरोप मढ़ दिया था. इस मामले में राजस्थान हाई कोर्ट ने प्रेमी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी.

वहीं लड़के ने कोर्ट को बताया कि जब लड़की के परिजन दोनों की शादी के लिए राजी नहीं हुए तो दोनों ने साथ में मरने का फैसला किया. दोनों ने जयपुर के एक निर्माणाधीन मकान में घुसकर कॉपर सल्फेट खा लिया. उसने कहा कि जो जहर उसने खाया था, उसकी तीव्रता कम निकली जबकि लड़की का खाया जहर ज्यादा तेज निकला. जिसकी वजह से उसे उल्टियां होने लगीं और मकान के पास रहने वाले पड़ोसियों ने दोनों को देख लिया.

बाद में अस्पताल में लड़की की मौत हो गई जबकि लड़के को बचा लिया गया.