Triple Talaq Bill पेश करते रविशंकर बोले – आस्था का विरोध नहीं, बिहार से उठी विरोधी आवाज

RAVISHANKAR

लाइव सिटीज, दिल्ली : केंद्र सरकार ने आज गुरुवार 28 दिसंबर को बहुचर्चित ट्रिपल तलाक बिल को लोकसभा में पेश कर दिया. लोकसभा ने बिल को पेश करते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि यह बिल महिलाओं के अधिकार और इंसाफ के लिए है. यह किसी पूजा, प्रार्थना या किसी धार्मिक रिवाज पर प्रतिबंध के लिए नहीं है. उन्होंने कहा कि आज हम इतिहास रचने जा रहे हैं. हालांकि विपक्षी दल इस बिल के विरोध में हैं और कई प्रावधानों पर सवाल खड़े कर रहे हैं.

सदन में आज कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैरकानूनी करार दिया है. अगर इसके बाद भी ये पाप किया जा रहा है तो इस पर सदन खामोश रहेगा क्या. उन्‍होंने कहा कि ये सदन को तय करना है कि ये पीड़ित महिलाओं का मौलिक अधिकार है या नहीं. प्रसाद ने विपक्षी दलों की आपत्तियों का जवाब देते हुए कहा – हमसे पूछा गया कि इसको अपराध क्‍यों बना रहे हैं. अगर तीन तलाक गैरकानूनी है तो ये अपराध क्‍यों नहीं है.



इससे पहले तीन तलाक बिल पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सांसदों को ब्रीफ किया. उन्‍होंने कहा है कि पीएम मोदी के रहते किसी मुस्लिम महिला के साथ अन्याय नहीं होगा. उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून बनाने को कहा था और उसी के आदेश का पालन हो रहा है.

असदुद्दीन ओवैसी समेत कई ने किया है विरोध

AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी ने बिल का विरोध करते हुए कहा है कि बिल पास हुआ तो मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का हनन होगा. उन्होंने कहा कि प्रस्तावित कानून को लेकर मुस्लिमों से कोई चर्चा नहीं कई गई. यदि पुरुष को जेल भेजा जाता है तो गुजारे भत्‍ते का भुगतान कौन करेगा. बिहार से राजद ने भी इसी आधार पर बिल का विरोध किया है.

बिहार से भी उठी आवाज

इस बिल पर जहां राजद ने सवाल उठाए हैं वहीँ बिहार कांग्रेस अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा है कि इस मामले में सरकार का हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए. बिहार में जैसे दहेज़ प्रथा और बाल विवाह को लेकर अभियान चल रहा है, अब तीन तलाक कोई मुद्दा ही नहीं है. उन्होंने कहा कि यह आस्था का प्रश्न है, इसमें पहले से ही नियम-कानून बने हुए हैं. उसमें छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए. इस विवाद पर कांग्रेस सांसद रंजीता रंजन ने कहा है कि वे बिल का समर्थन करती हैं लेकिन कानून जो सरकार ला रही है उसमें खामियां हैं. उसे सुधारना चाहिए.

ट्रिपल तलाक बिल आज संसद में होगा पेश, जानिए इसमें क्या-क्या रखा है मोदी सरकार ने
ट्रिपल तलाक़ पर सरकार का बिल मंजूर नहीं है AIMPLB को, वापस लेने की मांग