मस्जिद के बाहर DSP की पीट-पीट कर हत्या, भड़की महबूबा ने दी चेतावनी

mehbooba

लाइव सिटीज डेस्क : जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में जामिया मस्जिद के बाहर भीड़ के हाथों एक पुलिस अधिकारी की मौत को मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने शर्मनाक करार दिया है.उन्होंने साथ ही जम्मू-कश्मीर के लोगों को चेतावनी भी दी है. मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि अगर पुलिसवालों के संयम का यही परिणाम है तो फिर बहुत मुश्किल होने वाली है.

शुक्रवार की घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए महबूबा मुफ़्ती ने कहा कि यह कितने समय तक चलेगा? मैं लोगों से कहना चाहती हूं कि अगर यह चलता रहा तो स्थितियां वैसी ही हो जाएंगी जैसी थीं, जब लोग पुलिस की जीप सड़क पर देखकर भागा करते थे. इससे ज्यादा शर्मनाक क्या हो सकता है? DSP पंडित वहां लोगों की जान की हिफाजत के लिए थे. पुलिस यहां के लोगों के साथ ज्यादा से ज्यादा संयम बरतती है. लोगों को यह समझना चाहिए. अभी भी लोगों के पास समय है कि वे अपना बर्ताव बदल लें.’ महबूबा शुक्रवार को मृतक डीएसपी अयूब पंडित के जनाजे में भी शामिल हुईं.

mehbooba

गौरतलब है कि शुक्रवार सुबह श्रीनगर के जामिया मस्जिद के समीप भीड़ ने डीएसपी अयूब पंडित की पत्थर मार-मार कर हत्या कर दी थी. वो वहां सुरक्षा के लिए तैनात थे. मिल रही जानकारी के अनुसार कुछ लोगों ने उनपर हमला किया जिसके बाद डीएसपी ने अपनी आत्मरक्षा में गोली चलाई. गोली चलाने से उग्र हुई भीड़ ने इसके बाद डीएसपी अयूब पंडित की पीट-पीटकर हत्या कर दी. घटना के वक़्त हुर्रियत कान्फ्रेंस के उदारवादी गुट के प्रमुख मीरवाइज उमर फारूक भी मस्जिद में मौजूद थे.

घटना के बारे में डीजीपी एस पी वैद ने बताया है कि अब तक दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कहा कि डीएसपी को मस्जिद के एक्सेस कंट्रोल पर इसलिए तैनात किया गया था ताकि वह असामाजिक तत्वों को माहौल खराब न करने दें और लोग शांतिपूर्वक नमाज पढ़ सकें. लेकिन वह जिनकी सुरक्षा के लिए तैनात थे, उनमें से कुछ ने उनकी जान ले ली. यह अत्यंत दुखद है.

अधिकारी की जान लेने में शामिल सभी लोगों को कानून का सामना करना होगा.