पप्पू पहुंचे BHU, लगा आजादी का नारा, बोले – तानाशाही बहुत दिनों तक जिंदा नहीं रहती

PAPPU-VARANASI3

वाराणसी : BHU के विवाद में आज बुधवार 27 सितम्बर को जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय संरक्षक और बिहार के मधेपुरा के सांसद राजेश रंजन उर्फ़ पप्पू यादव भी कूद पड़े. वे सीधे दिल्ली से वाराणसी पहुंचे और अपने समर्थकों के साथ BHU के गेट पर. पप्पू के वाराणसी आने की खबर प्रशासन को मिल चुकी थी. पहले कुछ धक्का-मुक्की हुई. फिर यूनिवर्सिटी के गेट को बंद कर पप्पू यादव को भीतर जाने से रोका गया. इस रोक के बाद पप्पू गेट पर ही छात्र-छात्राओं के साथ जम गए और देर तक नारेबाजी होती रही.

पप्पू यादव मुट्ठियां तान खुद भी नारे बुलंद कर रहे थे. तानाशाही और गुंडागर्दी से आजादी का नारा लगा रहे थे. जब मीडिया ने BHU के गेट पर पप्पू यादव को घेरा, तो वे बोले कि यहां इसलिए आये हैं कि सरकार पगला गई है. आजादी के बाद पहला मौका है, जब यूनिवर्सिटी के भीतर छात्राओं के हॉस्टल में घुसकर पुलिस ने लाठियां मारी हैं. कोई महिला पुलिसकर्मी नहीं थी और मर्द पुलिस ने छात्राओं के प्राइवेट पार्ट पर भी लाठियां भांजी हैं.

पप्पू ने कहा कि उनका आना BHU के मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं है. उनकी पार्टी पहले से बिहार में इस मुद्दे को लेकर आंदोलनरत है. जब देश में निर्भया कांड हुआ था तो पूरा देश एकजुट हुआ था. आज BHU के मुद्दे पर भी सबों को साथ खड़े होने की जरुरत है. पिछले एक साल से सरकार में तानाशाही रवैया आ गया है. लेकिन तानाशाहों को जान लेना चाहिए कि लोकशाही में तानाशाह बहुत दिनों तक जिंदा नहीं रहते.

पप्पू के आंदोलन के दौरान BHU की छात्राओं ने अपनी पीड़ा बताई. कहा कि वे छेड़खानी के खिलाफ लड़ रहे थे. लेकिन यूनिवर्सिटी ने सुरक्षा की गारंटी देने के बजाए लाठियां चलवाईं. यह कौन सा इंसाफ है कि छात्राओं से कहा जाए कि हॉस्टल में वे नॉनवेज नहीं खा सकती हैं और न ही वाई-फाई का इस्तेमाल कर सकती हैं, क्योंकि यह सिर्फ छात्र ही कर सकते हैं. पप्पू ने कहा कि इस मामले को वे लोकसभा में उठाएंगे और सुप्रीम कोर्ट के समक्ष भी रखेंगे.

यह भी पढ़ें-
Patna में चलिए Sangeeta, यहां TV के साथ TV फ्री मिल रहा है अभी
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)