चीनी राजदूत से मिले राहुल गांधी, अब सफाई दे रही है कांग्रेस

rahul

लाइव सिटीज डेस्क : भारत और चीन के बीच सिक्किम में सीमा पर जारी तनातनी के दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और चीनी राजदूत की मुलाक़ात ने दिल्ली की राजनीति को गरम कर दिया है. बात इस कदर बढ़ी कि 8 जुलाई को हुई इस मुलाक़ात पर कांग्रेस पार्टी को आज सोमवार 10 जुलाई को सफाई देनी पड़ी है. कांग्रेस ने इसे सामान्य शिष्टाचार मुलाक़ात बताया है.

मीडिया में आई ख़बरों के अनुसार राहुल गाँधी ने 8 जुलाई को इंडिया में चीन के राजदूत लिओ झाओहुई से मुलाक़ात की. चीनी दूतावास द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इस दौरान दोनों के बीच भारत-चीन संबंधों पर बात हुई है. चीनी दूतावास ने इससे संबंधित जानकारी अपनी वेबसाइट पर दी थी. हालांकि बाद में वेबसाइट पर से इस जानकारी को हटा लिया गया. कुछ मीडिया संस्थानों ने अपने पास इस बयान का स्क्रीनशॉट होने का दावा किया है.

rahul

गौरतलब है कि राहुल गांधी और चीनी राजदूत के बीच ये मुलाकात भारत और चीन के बीच सिक्किम मुद्दे पर चल रहे तनाव के बीच हुई है. लिहाजा इस मुलाकात पर तरह-तरह के कयास लगाये जा रहे हैं. कांग्रेस ने भी पहले इस मुलाकात से इनकार किया लेकिन आज सोमवार को दोपहर होते-होते फिर से अपने बयान से पलटना पड़ा. कांग्रेस ने बाद में कहा कि कई देशों के नेता और राजदूत कांग्रेस अध्यक्ष और उपाध्यक्ष से मुलाकात करते रहते हैं.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि कई राजदूत और नेता शिष्टाचरवश कांग्रेस अध्यक्ष और उपाध्यक्ष से मिलते रहते हैं. खासकर जी5 देशों और पड़ोसी देशों के राजदूत, चाहे वो चीन के राजदूत हों, भूटान के राजदूत या फिर पूर्व एनएसए शिवशंकर मेनन. राहुल गांधी इन सभी से मिले, इसलिए किसी को भी ऐसी सामान्य मुलाकातों को बढ़ा चढ़ा कर पेश नहीं करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि इसे किसी घटना की तरह पेश नहीं करना चाहिए जैसा कि विदेश मंत्रालय करने की कोशिश कर रहा है.