देशभर में मुहर्रम पर जुलूस निकालने की अनुमति देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, स्थानीय प्रशासन पर छोड़ा फैसला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: मुहर्रम का जुलूस निकालने की अनुमति को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर सुनवाई की गई. याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हर जगह स्थानीय प्रशासन स्थिति के हिसाब से निर्णय लेता है. चीफ जस्टिस ने कहा कि पूरे देश पर लागू होने वाला कोई आदेश नहीं दिया जा सकता है. स्थानीय प्रशासन की जिम्मेवारी है कि वो इसे कैसे हैंडल करती है. 

बता दें कि शिया धर्म गुरु कल्बे जव्वाद के तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर मुहर्रम का जुलूस निकालने की अनुमति मांगी गई थी. इस याचिका पर चीफ जस्टिस एस ए बोबड़े की अध्यक्षता वाली बेंच ने सुनवाई की. धर्मगुरु की तरफ से पेश वकील ने कोर्ट से कहा कि पूरा एहतियात बरतते हुए जुलूस निकालने की अनुमति दी जानी चाहिए. जिस तरह पूरी में रथ यात्रा की अनुमति दी गई थी. 



इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि रथ यात्रा सिर्फ एक शहर में होनी थी. उसमें यह भी पता था कि यात्रा कहां से शुरू होकर कहां तक जाएगी. इस मामले में जुलूस पूरे देश में निकलने हैं. कुछ स्पष्ट नहीं है कि किस शहर में कहां से यात्रा शुरू होगी और कहां तक जाएगी. हम राज्य सरकारों को सुने बिना पूरे देश में लागू होने वाला कोई आदेश कैसे दे सकते हैं? बेहतर होगा कि हर जगह फैसला वहां के स्थानीय प्रशासन को लेने दिया जाए.